कुष्ठरोग पर अंकुश लगाने के लिए जागरूकता पखवाड़ा

Download PDF

मुंबई, विश्व कुष्ठरोग दिवस के उपलक्ष्य में महाराष्ट्र में कुष्ठरोग रोकथाम के लिए गुरुवार से जागरूकता पखवाड़ा मनाया जाएगा। इसके लिए जिलास्तर पर  प्रभात फेरी, प्रश्नोत्तर,  नुक्कड़ नाटक आदि विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से कुष्ठ रोग के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाई जाएगी।

2018 में कुष्ठरोग 0.96 प्रतिशत कम हुआ

केंद्र सरकार ने कुष्ठरोग की प्रमाण दर दस  हजार पर एक से नीचे लाने का लक्ष्य दिया है। दिसंबर 2018 के  आखिर में यह प्रमाण 0.96 प्रतिशत कम हुआ है। पिछले वर्ष चलाई गई कुष्ठरोग शोध अभियान में 12 हजार 415 नए कुष्ठ मरीज पाए गए हैं।  यह जानकारी बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री एकनाथ शिंदे ने दी।

विश्व कुष्ठरोग दिवस के उपलक्ष्य में की गई उपाययोजना के संबंध में जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष सितंबर महीने में कुष्ठरोग शोध अभियान चलाया गया। प्रदेश के सभी जिलों में यह अभियान चलाया गया। इसके अंतर्गत तकरीबन साढ़े सात करोड़ लोगों की जांच की गई।  इसमें 12 हजार 415 नए कुष्ठ मरीज पाए गए। पालघर, रायगड, नाशिक और ठाणे जिले में बच्चों में कुष्ठ रोग का प्रमाण अधिक पाया गया है। इसीतरह  गडचिरोली, चंद्रपुर, नंदुरबार, पालघर, धुले, रायगड, जलगांव, नागपुर, नाशिक, अमरावती इन जिलों में 500 से अधिक कुष्ठ मरीज पाए गए हैं। नए पाए गए कुष्ठ रोगियों में से 9 हजार 690 मरीजों औषधोपचार पूरा किया गया है।  
            राज्य सरकार के मार्फत कुष्ठ रोग जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाता है। स्कूल विद्यार्थियों की प्रभात फेरियां. वाद-विवाद प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, स्वास्थ्य रैली और लोक कला के माध्यम से कुष्ठ रोग के संबंध में जागरूकता फैलाई जाती है। हाल में मनाए गए गणतंत्र दिवस पर राज्य की 22 हजार ग्राम पंचायतों में   ‘स्पर्श’ अभियान के तहत ग्राम सभा लेकर कुष्ठ रोग के बारे में लोगों में जागरूकता  फैलाई गई।

केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि कुष्ठ रोगियों की दर दस हजार पर एक से नीचे लाई जाए और दिसंबर 2018 के आखिर तक यह प्रमाण 0.96 प्रतिशत से कम हुआ है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कुष्ठ रोगियों के लिए चिकित्सा पुनर्वास योजना कार्यान्वित की जा रही है। पात्र रोगियों की पुनर्रचनात्मक सर्जरी की जाती है। इसके अलावा, सामाजिक न्याय विभाग द्वारा कुष्ठ रोगियों का वित्तीय और सामाजिक पुनर्वास की योजनाएं लागू की जाती हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य में कुष्ठ रोगियों की संख्या  शून्य पर लाने के प्रयास किए जाएंगे।


Download PDF

Related Post