“राज ठाकरे के भाषण से उत्तर भारतीयों को निराशा”

Download PDF
मुंबई। कांग्रेस ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे पर निशाना साधा है। कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष संजय निरूपम ने कहा है कि राज के भाषण से उत्तर भारतीयों को निराशा हुई है। राज ने हिंदी भाषियों और मराठी भाषियों को जोड़ने की बजाए तोड़ने का काम किया है।

निरूपम ने कसे राज ठाकरे पर तंज 

पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए निरूपम ने कहा कि राज के भाषण से लोगों के बीच कड़वाहट बढ़ेगी। राज से हिंदी भाषियों को  काफी उम्मीदें थी। लग रहा था कि उत्तर भारतीयों के प्रति राज के रुख में नरमी आएगी, परंतु उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा। वे अभी भी अपने कड़े रुख पर कायम हैं। उन्होंने कहा कि कहा देश के हर नागरिक को किसी भी हिस्से में जाकर रोजी-रोटी कमाने का अधिकार है। यैसा करने से कोई किसी को नहीं रोक सकता।
हालांकि निरुपम ने राज के उस बयान का समर्थन किया, जिसमें उन्होंने उत्तर भारतीयों को मराठी सीखने की नसीहत दी है, लेकिन इसके लिए हिंदी भाषा का अपमान नहीं किया जा सकता है। निरूपम ने बताया कि यूपी और बिहार समुचित विकास नहीं होने के कारण मुंबई में रहनेवालों को मारा-पीटा नहीं जा सकता। मुंबई के विकास में उत्तर भारतीयों के योगदान को भूलाया नहीं जा सकता।
निरूपम ने कहा कि  देश के हर हिस्से में वहां के क्षेत्रीय भाषा में बात की जाती है, लेकिन हिंदी देश की सबसे ज्यादा बोली जानेवाली भाषा है। हिंदी भाषा का सम्मान किया जाना चाहिए। याद दिला दें कि बीते रविवार को राज कांदिवली में आयोजित एक कार्यक्रम में उत्तर भारतीयों के एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। राज पहली बार सार्जनिक मंच पर हिंदी में भाषण दिया था।
उन्होंने कहा कि उत्तर भारत के नेताओ के कारण प्रांतवाद बढ़ा है। देश को सबसे ज्यादा पीएम देनेवाले यूपी में विकास हुआ होता तो यूपी के लोगों को बाहरी राज्यों में जाने की जरूरत नहीं पड़ती। वे महाराष्ट्र के हित में आवाज उठाते रहेंगे।
Download PDF

Related Post