65वाँ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: विनोद खन्ना और श्रीदेवी को मरणोपरांत पुरस्कार

Download PDF
मुंबई- 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार की घोषणा हो गई है। मरणोपरांत फिल्म अभिनेता विनोद खन्ना को दादासाहेब फालके पुरस्कार और फिल्म अदाकारा श्रीदेवी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार घोषित किया गया है।
भारतीय सिनेमा जगत में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़नेवाली दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी को ‘मां’ फिल्म की भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार के लिए चुना गया है। ‘नगरकीर्तन’ पंजाबी फिल्म के लिए रिध्दी सेन को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है। बतौर पुरस्कार रजत कमल और 50 हजार रूपए नकद पुरस्कार दिया जाएगा। 
राष्ट्रीय चित्रपट पुरस्कार समिति के अध्यक्ष निर्देशक शेखर कपूर और सदस्यों ने शुक्रवार को नई दिल्ली के शास्त्री भवन में आयोजित पत्रकार परिषद में वर्ष 2017 के राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। इस साल का दादासाहेब फालके पुरस्कार बॉलीवूड के लोकप्रिय अभिनेता दिवंगत विनोद खन्ना को दिया जाएगा। भारतीय सिनेमा जगत में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़नेवाली दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी को ‘मां’ फिल्म की भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार के लिए चुना गया है। ‘नगरकीर्तन’ पंजाबी फिल्म के लिए रिध्दी सेन को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है। बतौर पुरस्कार रजत कमल और 50 हजार रूपए नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

पुरस्कारों की घोषणा शुक्रवार की दोपहर को प्रसिद्ध फिल्म निर्माता शेखर कपूर की अध्यक्षता वाली जूरी ने की। 10 सदस्यीय पैनल में पटकथा लेखक इम्तियाज हुसैन, गीतकार मेहबूब, अभिनेत्री गौतमी तडिमल्ला, कन्नड़ के निदेशक पी शेषाद्री, अनिरुद्ध रॉय चौधरी, रणजीत दास, राजेश मपसुकर, त्रिपुरारी शर्मा और रुमी जाफरी शामिल हैं।

‘कच्चा लिंबू’ सर्वश्रेष्ठ मराठी फिल्म
क्षेत्रीय फिल्मों में मराठी फिल्म कच्चा लिंबू को सर्वश्रेष्ठ फिल्म के रूप में चुना गया। फिल्म के निर्माता मंदार देवस्थली हैं और निर्देशन प्रसाद ओक ने किया है। निर्देशक और निर्माता को रजत कमल और एक लाख रुपए का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। निपुन धर्माधिकारी द्वारा निर्देशित और सुमतीलाल शाह द्वारा निर्मित मराठी फिल्म ‘धप्पा’ को राष्ट्रीय एकता के लिए सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए नरगिस दत्त पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया है। इस फिल्म को रजत कमल और 1 लाख 50 हजार रुपए बतौर पुरस्कार की घोषणा की गई है।
‘म्होरक्या’ सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्म
अमर देवकर द्वारा निर्देशित और कल्याण पाडाल द्वारा निर्मित म्हारेक्या मराठी फिल्म देश की सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्म चुनी गई है। स्वर्ण कमल और एक लाख पचास हजार रुपए पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे। ‘म्होरक्या’ फिल्म के लिए यश राज का-हाडे को विशेष उल्लेखनीय पुरस्कार घोषित हुआ है। पुरस्कार के रूप में प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा। नॉनफिचर में मराठी फिल्मों का दबदबा रहा। ‘पावसाचा निबंध’ इस फिल्म के लिए प्रसिध्द निर्देशक नागराज मंजुले को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार घोषित किया गया। उन्हें स्वर्ण कमल और 1 लाख 50 हजार रूपए नकद पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस फिल्म के ऑडियोग्राफर अविनाश सोनवने को सर्वश्रेष्ठ ऑडियोग्राफी का पुरस्कार घोषित किया गया है। रजत कमल और 50 हजार रुपए पुरस्कार का स्वरूप है। इसीतरह मयत लघु फिल्म और वीलेज रॉकस्टार्स (आसमी) को सर्वश्रेष्ठ फिल्म के रूप में चुना गया है।

 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की पूरी सूची:

दादा साहब फाल्के पुरस्कार: विनोद खन्ना (मरणोपरांत)

सर्वश्रेष्ठ निर्देशक: जयाराज के लिए भायनकाम (मलयालम)

सर्वश्रेष्ठ फिल्म: विलेज रॉकस्टार (असमिया)

सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म: बाहुबली 2

स्पेशल मेशन अवार्ड्स: मुराखिया (मराठी फिल्म); हैलो आरसी (ओडिया फिल्म); ले ऑफ ऑफ (मलयालम फिल्म); पंकज त्रिपाठी (न्यूटन के लिए); मलयालम अभिनेता पार्वती (टेक ऑफ के लिए)

सर्वश्रेष्ठ क्षेत्रीय फिल्म: लद्दाख

सर्वश्रेष्ठ मराठी फिल्म: कच्चा लिंबू

सर्वश्रेष्ठ मलयालम फिल्म: थोंडीमुथलुम द्राक्सक्ष्यम

सर्वश्रेष्ठ हिंदी फिल्म: न्यूटन

सर्वश्रेष्ठ बंगाली फिल्म: मयूरक्षी

सर्वश्रेष्ठ असमिया फिल्म: इशू

सर्वश्रेष्ठ तमिल फिल्म: टू लेट

सर्वश्रेष्ठ तेलगु: गाज़ी

उत्तम गुजराती: डीएचएच

सर्वश्रेष्ठ एक्शन निर्देश: बाहुबली 2

सर्वश्रेष्ठ कोरियोग्राफी: टॉलेट : एक प्रेम कथा (गणेश आचार्य कोरियोग्राफर हैं)

सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म समीक्षक: गिरिधर झा

फिल्म आलोचना के लिए विशेष उल्लेख: मध्य प्रदेश के सुनील मिश्रा

बेस्ट स्पेशल इफेक्ट्स: बाहुबली 2

स्पेशल ज्यूरी अवार्ड: नगर कीर्तन (बंगाली)

सर्वश्रेष्ठ गीत: कन्नड़ फिल्म के लिए मुथु रत्न,  मार्च 22

सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन: ए आर रहमान के लिए कात्रु वेलिईदई

पृष्ठभूमि स्कोर: मॉम  के लिए एआर रहमान

सर्वश्रेष्ठ श्रृंगार कलाकार: नगर कीर्तन के लिए राम रजाक

सर्वश्रेष्ठ उत्पादन डिजाइन: संतोष राजन (मलयालम)

सर्वश्रेष्ठ संपादन: रीमा दास (असमिया फिल्म के लिए)

बेस्ट पटकथा मूल: थोंडीमुथलुम द्राक्सक्ष्यम

सर्वश्रेष्ठ अनुकूलित पटकथा: भायांकम, जयराज के लिए

सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म प्लेबैक सिंगर: शाशा तिरुपति (वान वरुवान गीत)

सर्वश्रेष्ठ पुरुष पार्श्वगायक: विसावासपुरम मंसूर से पय मारनजा कलाम के लिए यसूदास

सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री: दिव्या दत्ता, इरादा  (हिंदी फिल्म)

सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता: फहद फ़ाज़िल

सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री: मॉम के लिए श्रीदेवी

सर्वश्रेष्ठ अभिनेता: रिधि सेन, नगर कीर्तन

राष्ट्रीय एकता के लिए सर्वश्रेष्ठ फिल्म: ढप्पा (मराठी)

Download PDF

Related Post