दूषित बर्फ बिक्रेताओं पर गिरेगी सरकार की गाज 

Download PDF

– हल्के नीले रंग की होगी अखाद्य बर्फ – 

मुंबई- दूषित बर्फ बनानेवाले या बेचनेवालों का खैर नहीं होगी। सरकार ने इस पर कठोर कार्रवाई करने का फैसला लिया है। महाराष्ट्र सरकार की पहल पर पूरे देश में इस आशय का कानून एक जून 2018 से लागू हो जाएगा। दोषियों पर सख्त कार्रवाई होगी।
काफी अध्ययन के बाद राज्य प्रशासन ने अखाद्य बर्फ की पहचान के लिए हल्के नीले रंग के उपयोग का प्रस्ताव तैयार किया है। न खाए जानेवाले बर्फ हल्के नीले रंग का होगा। इसे मांस, मटन जैसे विभिन्न विभिन्न पदार्थों के भंडारण के लिए लाया जाएगा। इस रंग का बर्फ खाया जाए तो भी दुष्परिणाम न हो। राज्य में यह अधिसूचना लागू करने के बाद यह प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया था। केंद्र के फूड सेफ्टी एथोरिटी ऑफ इंडियाने महाराष्ट्र का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है।
महाराष्ट्र को खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने दूषित बर्फ, खाने वाले बर्फ और औद्योगिक इस्तेमाल में लाए जानेवाले बर्फ की पहचान के लिए उपाय योजना बनाई है। इसके लिए राज्य सरकार की ओर से बर्फ के उत्पादन के लिए अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। राज्य विधानमंडल के दोनों सदनों में निवेदन पेश किया चुका है। महाराष्ट्र सरकार के इस पैटर्न को केंद्र ने भी मंजूरी दे दी है। यह पैटर्न देश के सभी राज्यों में एक जून 2018 से लागू किया जाएगा। इस बाबत अन्न एवं औषधि प्रशासन मंत्री गिरीश बापट ने फीडबैक ली है। दूषित बर्फ में होनेवाली मिलावट के कारण मनुष्य के स्वास्थ्य पर दुष्परिणाम होता है। सामान्य जनता खानेवाले और न खानेवाले बर्फ की पहचान कर सके, इसलिए उपाय योजना बनाई गई है।
काफी अध्ययन के बाद राज्य प्रशासन ने दूषित बर्फ, अखाद्य बर्फ की पहचान के लिए हल्के नीले रंग के उपयोग का प्रस्ताव तैयार किया है। न खाए जानेवाले बर्फ हल्के नीले रंग का होगा। इसे मांस, मटन जैसे विभिन्न विभिन्न पदार्थों के भंडारण के लिए लाया जाएगा। इस रंग का बर्फ खाया जाए तो भी दुष्परिणाम न हो। राज्य में यह अधिसूचना लागू करने के बाद यह प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया था। दूषित बर्फ को लेकर केंद्र के फूड सेफ्टी एथोरिटी ऑफ इंडियाने महाराष्ट्र का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है। देश के अन्य राज्यों में भी इस नियम का पालन करने का आदेश दिया गया है। देशभर में 1 जून 2018 से इस संबंध में आदेश लागू किया जाएगा। इस कानून का उल्लंघन करनेवाले बर्फ उत्पादकों पर कार्रवाई होगी।
Download PDF

Related Post