दोस्ती बिल्डर के सभी प्रोजेक्ट की हो जांच – सपा 

Download PDF
मुंबई-  वडाला में दोस्ती बिल्डर के सभी प्रोजेक्टस की जांच करवाई जाए और जमीन धंसने से जिन रहिवासियों को नुकसान हुआ है उन्हें दोस्ती बिल्डर से राशि वसूल कर मुआवजा दिया जाए । सपा विधायक अबू आसीम आजमी ने यह मांग नागपुर में चल रहे विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान की।
आजमी ने दोस्ती बिल्डर को मनपा द्वारा क्लीन चिट दिए जाने पर भी आपत्ति जताई और कहा कि दोस्ती बिल्डर की लापरवाही के चलते हादसा हुआ । आजमी ने कहा कि यैसे में बिल्डर से दंड वसूल कर उसे प्रभावित रहिवासियों को दिया जाए । साथ ही दोस्ती बिल्डर के सारे प्रोजेक्ट्स की जांच नेशनल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट से करवाई जाए ।
आजमी ने कहा कि दोस्ती बिल्डर की लापरवाही के चलते वडाला में जमीन धंसने से कई कार क्षतिग्रस्त हो गई और काफी घरों में दरारें आ गई है । घटना से इलाके के रहिवासी डरे हुए हैं ।आजमी ने सवाल किया कि रहिवासियों को शिफ्ट करने पर सरकार विचार कर रही है या नही ।इसी तरह आजमी ने दोस्ती बिल्डर को मनपा द्वारा क्लीन चिट दिए जाने पर भी आपत्ति जताई और कहा कि दोस्ती बिल्डर की लापरवाही के चलते हादसा हुआ । आजमी ने कहा कि यैसे में बिल्डर से दंड वसूल कर उसे प्रभावित रहिवासियों को दिया जाए । साथ ही दोस्ती बिल्डर के सारे प्रोजेक्ट्स की जांच नेशनल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट से करवाई जाए ताकि पता चल सके लापरवाही कहां हुई है ।आजमी ने इसी के साथ सवाल किया कि दोस्ती बिल्डर को पर्यावरण विभाग की मंजूरी मिली है या नहीं।
दूसरे मामले में आजमी ने आरोप लगाया कि ठाणे मनपा प्रशासन की लापरवाही के चलते उर्दू स्कूल बदहाल हैं । औचित्य के मुद्दे पर चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि ठाणे मनपा क्षेत्र में कुल 23 उर्दू स्कूल हैं ,लेकिन इनमें से 19 स्कूलों में हेडमास्टर ही नही है । इसी तरह मुंब्रा में अकेले 16 स्कूल हैं ,लेकिन इन स्कूलों की हालत काफी खराब है । यहां शिमला नामक एक ही इमारत में 16 स्कूल है ,जबकि मुंब्रा स्टेशन के पास एक अन्य इमारत में 4 उर्दू स्कूल हैं । इसी तरह कौसा इलाके में 12 स्कूल हैं ।यह इलाका अल्पसंख्यक समुदाय है ।ऐसे में उर्दू स्कूलों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है ।आजमी ने बताया कि 2012 से 120 शिक्षको की जरूरत है ।38 उर्दू के टीचर हो गए है ,लेकिन अब तक नई भर्तियां नही की गई ।इन स्कूलों में बच्चो की संख्या लगातार बढ़ रही है ,लेकिन बुनियादी सुविधाओं को नही बढ़ाया जा रहा है।
Download PDF

Related Post