अमित शाह और उद्धव ठाकरे की मुलाकात से सियासत में हचचल 

Download PDF
मुंबई। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को फिल्म अभिनेत्री माधुरी दीक्षित, उद्योगपति रतन टाटा, स्वरकोकिला लता मंगेशकर सहित शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। इन मुलाकातों में सबसे उत्सुकता शाह और उद्धव की भेंट को लेकर रही। देर शाम मातोश्री पहुंचे शाह और उद्धव के बीच बंद कमरे में लंबी चर्चा हुई। दोनों में हुई गुप्त बैठक में क्या बातचीत हुई, इसका खुलासा देर रात तक नहीं हो सका था। दूसरी ओर इस मुलाकात में क्या रणनीति बनी है, इसे लेकर विपक्षियों में हलचल मची हुई है।
शाह के दौरे का एजेंडा अचानक बदले जाने से शाह और उद्धव की मुलाकात पर सवाल खड़े हो गए थे। शाह के एजेंडे में उद्धव से मुलाकात के समय का उल्लेख नहीं था। अटकलें लगाई जा रही थी कि शिवसेना के मुखपत्र सामना में शाह के खिलाफ छपी संपादकीय के कारण मुलाकात टाल दी गई है।
आगामी चुनाव में क्या दोनों पार्टियां गठजोड़ करेंगी। इस पर अभी भी रहस्य बरकरार है। दरअसल उद्धव अगला चुनाव स्वयंबल पर लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। बुधवार को मुंबई पहुंचे शाह के स्वागत के लिए हवाईअड्डे पर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, पार्टी प्रदेशाध्यक्ष रावसाहेब दानवे पाटिल, शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े सहित पार्टी के अन्य नेता मौजूद थे। हवाईअड्डे से शाह अपने लाव-लश्कर के साथ बांद्रा के रंगशारदा हाल पहुंचे, जहां उन्होंने पार्टी नेताओं के साथ बैठक की। इससे पहले शाह के दौरे का एजेंडा अचानक बदले जाने से शाह और उद्धव की मुलाकात पर सवाल खड़े हो गए थे। शाह के एजेंडे में उद्धव से मुलाकात के समय का उल्लेख नहीं था। अटकलें लगाई जा रही थी कि शिवसेना के मुखपत्र सामना में शाह के खिलाफ छपी संपादकीय के कारण मुलाकात टाल दी गई है। हालांकि शिवसेना के पूर्व सांसद भरत कुमार राऊत ने स्पष्ट किया उद्धव ने खुद उन्हें बताया है शाह ने फोन करके मिलने का समय मांगा है। उद्धव ने शाह को बुधवार शाम सात बजे मिलने का समय दिया है।
रंगशारदा में बैठक समाप्त होने के बाद शाह ने माधुरी के घर जाकर उनसे से मुलाकात की। इस अवसर पर माधुरी के पति डॉ. नेने भी मौजूद थे। चर्चा है कि शाह ने माधुरी को राज्यसभा सदस्य की ऑफर दी है। दोपहर में सहयाद्री अतिथिगृह में विश्रांति के बाद शाह ने रतन टाटा से मुलाकात की। इसके बाद वे लता मंगेशकर से मिले। रास्ते में सिद्धीविनायक मंदिर का दर्शन करने के बाद वे मुंबई भाजपा अध्यक्ष आशिष शेलार के आवास पहुंचे। शेलार की माताजी के निधन के बाद वे परिवार को सांत्वना देने पहुंचे थे। इसके बाद शाह ने उद्धव के आवास मातोश्री की ओर रूख किया। मुख्यमंत्री फडणवीस भी उनके साथ मौजूद थे। शाह की मेहमाननवाजी के लिए गुजराती व्यंजनों का खास इंतजाम किया गया था। मातोश्री पहुंचने के बाद शाह का शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे और मीलिंद नार्वेकर ने स्वागत किया। उद्धव और शाह ने शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के कमरे में लंबी चर्चा की। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष रावसाहेब दानवे मातोश्री नहीं गए। इसकी वजह राज्यमंत्री अर्जुन खोतकर की नाराजगी बताई जा रही है। हालांकि दानवे ने स्पष्ट किया है वे पहले से तय पार्टी पदाधिकारियों की बैठक के कारण मातोश्री नहीं जा पाए।
Download PDF

Related Post