वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के खिलाफ अपील दायर

Download PDF

मुंबई- वालमार्ट फ्लिपकार्ट डील को प्रतिस्पर्धा आयोग द्वारा मंजूरी देने के खिलाफ कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने नेशनल कंपनी लॉ अपील ट्रिब्यूनल में अपील दायर की है।जिसमें अखिल कर प्रतिस्पर्धा आयोग के फैसले को चुनौती दी गई है ।आयोग के फैसले को निरस्त करने का अनुरोध किया गया है । 

मेरिट के आधार पर आपत्ति दर्ज़ करने के बाद भी आयोग ने कैट को सुनवाई का कोई मौका नहीं दिया

अपनी अपील में कैट ने कहा है मेरिट के आधार पर आपत्ति दर्ज़ करने के बाद भी आयोग ने कैट को सुनवाई का कोई मौका नहीं दिया।वालमार्टफ्लिपकार्ट द्वारा सरकार के प्रेस नोट 3 का उल्लंघन करने को भी नजरअंदाज कर डील को मंजूरी दी गई है ।कैट की ओर से सीथारमन एंड एस्सोसिएट्स ने अपील दाखिल की है । कैट के  मुताबिक  इस डील के खिलाफ आयोग में आपत्तियों का एक विस्तृत दस्तावेज़ दाखिल किया गया था, जिसमें यह स्पष्ट किया गया था कि किस प्रकार डिस्काउंट और लागत से भी कम मूल्य पर माल कॉमर्स पोर्टल पर फ्लिपकार्ट द्वारा बेचा जा रहा है। वालमार्ट फ्लिपकार्ट का गठजोड़ कॉमर्स के जरिए देश के रिटेल बाज़ार में कीमतों को प्रभावित करेगा जिससे असमान प्रतिस्पर्धा का वातावरण बनेगा। छोटे व्यापारी वालमार्ट-फ्लिपकार्ट का मुकाबला नहीं कर पाएंगे ।वालमार्ट दुनियाभर से माल लाकर अपने ब्रांड से बेचेगा और प्रतिस्पर्धा ख़त्म करने के लिए लागत से भी कम मूल्य पर बेचना और डिस्कॉउंटिंग का रास्ता अपनाएगा !

प्रतिस्पर्धा आयोग ने सभी आपत्तियों को दरकिनार करते हुए सुनवाई तक का कोई मौका नहीं दिया। हालाकिं आयोग ने  माना कि डिस्कॉउंटिंग और कम लागत पर माल बेचा जाता है, परंतु  यह उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं है कह कर पल्ला झाड़ लिया। आयोग ने  डील को मंजूरी दे दी । जो कि यह सरासर न्याय के प्राकृतिक सिद्धांतों के खिलाफ है ! प्रेस नोट 3 के उल्लंघन को भी आयोग ने संज्ञान में नहीं लियाकैट ने अपील की है की कैट के द्वारा उठाये गए मुद्दों औरआपत्तियों पर सुनवाई की जाए । आयोग का निर्णय निरस्त किया जाए और तब तक यथस्तिथि बनाए रखी जाए।

Download PDF

Related Post