औरंगाबाद को बनायेंगे विश्व दर्जे का शहर – सीएम फडणवीस 

Download PDF
मुंबई- मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस सोमवार को औरंगाबाद में बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित कई हस्तियों ने शिरकत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मराठवाडा को विभिन्न सरकारी योजनाओं के माध्यम से विकास की राह पर लाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा है औरंगाबाद को विश्वस्तर का शहर बनाया जाएगा। 

उत्साह के साथ मनाया मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस

मुख्यमंत्री के मुताबिक पिछले चार साल में सिंचाई का अनुशेष, जलयुक्त शिवार, जो मांगेगा उसे खेत तालाब, बलीराजा किसान संजीवनी योजना, नागपुर-मुंबई समृद्धि महामार्ग, ऑरिक सिटी, मराठवाड़ा वॉटर ग्रीड जैसे उपक्रमों के माध्यम से सरकार ने मराठवाड़ा को विकास की दिशा में ले जाने की प्रयास किया है। मराठवाड़ा को अकाल से मुक्ति दिलाने के लिए  जलयुक्त शिवार, जो मांगे उसे खेत तालाब, वृक्षारोपण मुहिम पर प्रभावी रूप से अमल किया गया है।  आगे भी मराठवाड़ा को विकास, समृद्धि की दिशा में आगे ले जाने के लिए सर्वोतोपरी प्रयास किए जाएंगे।
M
औरंगाबाद के सिद्धार्थ उद्यान में मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस के उपलक्ष्य में समारोह का आयोजन किया गया था।  इस मौके पर परिवहन मंत्री दिवाकर रावते, सांसद चंद्रकांत खैरे, जिला परिषद अध्यक्ष एड. देवयानी डोणगावकर, महापौर नंदकुमार घोडेले, मराठवाड़ा विकास मंडल के अध्यक्ष डॉ. भागवत कराड, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष विजया रहाटकर सहित कई हस्तियां मौजूद थी।  मुख्यमंत्री ने कहा कि अंग्रेजों ने स्वतंत्र अधिकार दिए. इन अधिकारों का गैरउपयोग कर निजामों ने हैदराबाद संस्थान के संदर्भ में निर्णय लिया.। लेकिन उनके खिलाफ मराठवाड़ा की मुक्ति के लिए स्वतंत्रता सैनानियों ने आंदोलन और संघर्ष किया।  मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस पर एकसंघ भारत, एक संघ महाराष्ट्र रखनेवाले सभी स्वतंत्रता सेनानियों के सामने वे नतमस्तक होते हैं। 
मुख्यमंत्री के अनुसार वॉटर ग्रीड परियोजना के माध्यम से 14 परियोजनाओं का पानी एकत्रित कर पाइपलाइन द्वारा मराठवाडा में पानी उपलब्ध कराने के लिए ‘मराठवाडा वॉटर ग्रीड’ तैयार की जा रही है।  बलीराजा किसान संजीवनी योजना से लगभग 15 हजार करोड़ से अधिक निधि मराठवाडा को दिया गया है। ‘जो मांगे उसे खेत तालाब’ के अंतर्गत 35 फीसदी खेत तालाब मराठवाडा में खोदे गए हैं। इसके माध्यम से 60 हजार हेक्टेयर से अधिक संरक्षित सिंचाई क्षमता निर्माण हुई हैं। वन क्षेत्र कम होने से मराठवाड़ा के विकास के लिए वृक्षाच्छादन महत्वपूर्ण था। इसके लिए इस वर्ष में दो करोड़ वृक्ष लगाकर एक रिकार्ड प्रस्थापित किया गया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि  राज्य की तुलना में 35 फीसदी खेत तालाब मराठवाड़ा में हैं।  औरंगाबाद को विश्व दर्जे का शहर बनाया जाएगा। डीएमसी के माध्यम से 11 हजार करोड़ का निवेश किया जाएगा। तीन लाख रोजगार निर्माण होगा और औरंगाबाद शहर ‘उद्योग का मैग्नेट’ बनेगा। 
Download PDF

Related Post