दलित बच्चों के साथ मारपीट, सियासत गरमाई

Download PDF

मुंबई- महाराष्ट्र के जलगांव जिले में दलित बच्चों को नंगा करके मारपीट करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। बच्चों का कसूर इतना था कि वे कुएं में उतर कर तैर रहे थे। दबंगों ने उन्हें नग्न करके जमकर पीटा। इस मामले को लेकर प्रदेश की सियासत गरमा गई है। कांग्रेस का एक शिष्टमंडल शुक्रवार को जिले के जामवाकडी गांव का दौरा करनेवाले है।

बच्चों को नंगा करके मारा-पीटा और उसका वीडियो भी बनाया। वीडियो वायरल किया गया। इस पर कांग्रेस सहित दलित समुदाय से जुड़े संगठनों ने कड़ी आपत्ति जताई है।

बच्चे मातंग समुदाय के थे, बचपना का अल्हडपना वे कुएं में उतर कर स्नान करने लगे। दबंगों को यह बात नागवार गुजरी, उन्होंने बच्चों को नंगा करके मारा-पीटा और उसका वीडियो भी बनाया। वीडियो वायरल किया गया। इस पर कांग्रेस सहित दलित समुदाय से जुड़े संगठनों ने कड़ी आपत्ति जताई है। कांग्रेस ने आक्रामक रूख अख्तियार करने का फैसला किया है। पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने कड़ी नाराजगी जताई है। चव्हाण ने कहा है यह घटना फुले, शाहू, आंबेडकर के पुरोगामी महाराष्ट्र और मानवता पर कालिख पोतने जैसी है। भाजपा सरकार में इसतरह की घटनाएं बार-बार घट रही हैं। इसके लिए भाजपा की दलित विरोधी मनुवादी विचारधारा जिम्मेदार है।

पूर्व मुख्यमंत्री चव्हाण के मुताबिक देश में जब से भाजपा सरकार आई है दलितों, अल्पसंख्यकों और आदिवासियों पर होनेवाले अत्याचार में बड़े पैमाने पर वृद्धि हुई है। ऊना में दलितों पर जुल्म, रोहित वेमुला प्रकरण घोड़े पर बैठने के कारण मारपीट, मूंछ बढ़ाने पर मारपीट जैसे घिनौने कृत्य देश में हो रहे हैं। दुर्भाग्य है शिकायत करने के बाद भी दोषियों पर सरकार कार्रवाई नहीं करती। बीते चार वर्ष में देश को पीछे ले जाने का काम भाजपा सरकार ने किया है। सरकार की मनुवादी विचारधारा के कारण भयंकर दुष्परिणाम समाज को भुगतना पड़ रहा है। पूर्व मंत्री अब्दुल सत्तार की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी का एक दल जलगांव के जामवाकडी तहसील जामनेर गांव जाकर शीघ्र पीड़ित परिवार से मुलाकात करेगा। साथ ही पुलिस अधिकारियों से मुलाकात करके दोषियों पर कठोर कार्रवाई करने की मांग करेगा।

 

Download PDF

Related Post