माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड की बेस्ट फाईव पद्धति

Download PDF

भोपाल, माध्यमिक शिक्षा मंडल की परीक्षा प्रणाली में सुधार के क्रम में शैक्षणिक सत्र 2017-18 से बोर्ड परीक्षाओं के अंतर्गत कक्षा 10वीं में ‘बेस्ट फाईव” पद्धति लागू की गई है।

जिन 5 विषयों में विद्यार्थी के सबसे अधिक अंक होंगे, परीक्षा परिणाम की गणना के लिए उन 5 विषयों के अंकों को ही लिया जायेगा। परीक्षाफल ‘बेस्ट फाईव’ पद्धति से जिन 5 विषयों में अधिकतम अंक होगे उनको महायोग में सम्मिलित करके परीक्षाफल घोषित किया जाएगा, परन्तु इन पांच विषयों में प्राप्त(सैद्धांतिक तथा प्रायोगिक/ प्रोजेक्ट) में पृथक-पृथक उत्तीर्ण होना अनिवार्य होगा।

‘बेस्ट फाईव” पद्धति के अंतर्गत जिन 6 विषयों में माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा परीक्षा ली जाती है, उन में से जिन 5 विषयों में विद्यार्थी के सबसे अधिक अंक होंगे, परीक्षा परिणाम की गणना के लिए उन 5 विषयों के अंकों को ही लिया जायेगा। परीक्षाफल ‘बेस्ट फाईव’ पद्धति से जिन 5 विषयों में अधिकतम अंक होगे उनको महायोग में सम्मिलित करके परीक्षाफल घोषित किया जाएगा, परन्तु इन पांच विषयों में प्राप्त(सैद्धांतिक तथा प्रायोगिक/ प्रोजेक्ट) में पृथक-पृथक उत्तीर्ण होना अनिवार्य होगा। छटवां विषय जिसमें सबसे न्यूनतम अंको की गणना महायोग में नहीं की जायेगी। छठवें विषय के अंक, अंकसूची में मात्र प्रदर्शित किये जाएंगे।

हाईस्कूल बोर्ड परीक्षाओं में ‘बेस्ट फाईव” पद्धति अपनाने से न केवल परीक्षार्थियों का मानसिक तनाव दूर किया जा सकेगा, बल्कि प्रदेश के छात्रों-छात्राओं को मुख्य धारा से जोड़ा जा सकेगा।

Download PDF

Related Post