अगस्त तक भुजबल की गिरफ़्तारी नहीं

Download PDF

मुंबई- करोड़ों के मनी लांड्रिंग मामले में पूर्व मंत्री व राकां नेता छगन भुजबल व उनके परिवार वालों को बड़ी राहत मिली है। इस मामले की सुनवाई कर रहे विशेष पीएमएलए कोर्ट ने भुजबल समेत उनके संबंधियों को 6 अगस्त तक अरेस्ट नहीं करने के आदेश दिए हैं । कोर्ट ने भुजबल को पर्सनल बांड भरने का भी आदेश दिया है।

ईडी ने भुजबल के नाशिक स्थित 25 करोड़ की संपति जब्त की है। इस बारे में ईडी ने पीएमएलए कोर्ट में सप्लीमेंटरी चार्जशीट दायर की है। हालांकि भुजबल के वकील का कहना है कि एक अपराध के लिए दो बार गिरफ़्तारी नहीं हो सकती है। उनका कहना है कि इस मामले में नई जानकारी मिलने से भुजबल की जमानत पर असर नहीं होगा। दिल्ली में बने महाराष्ट्र सदन के निर्माण में हुए कथित घोटाले को लेकर भुजबल दो साल से जेल में बंद थे । 4 मई को उन्हें 5 लाख के मुचलके पर जमानत मिली थी।

इस मामले में प्रवर्तन  निदेशालय (ईडी) ने भुजबल को 14 मार्च 2016 को अरेस्ट किया था। महाराष्ट्र सदन घोटाले के मामले में भुजबल के अलावा उनके बेटे पंकज व भतीजे समीर समेत14 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किए गए हैं। ईडी का आरोप है कि भुजबल ने महाराष्ट्र सदन के निर्माण में घोटाला करते हुए करोड़ों की संपति अर्जित की है । ईडी ने कार्रवाई करते हुए भुजबल की कई संपतियों को सील कर दिया है । नए महाराष्ट्र सदन का निर्माण 100 करोड़ रुपये की लागत से किया गया था। इस दौरान कांग्रेस-राकां की गठबंधन सरकार में भुजबल पीडब्लूडी मंत्री थे।

Download PDF

Related Post