भाजपा के नरम पड़े तेवर, शिवसेना से चाहती है दोस्ती 

Download PDF
मुंबई । तीन राज्यों में मिली पराजय से हताश भाजपा के तेवर नरम पड़ गए हैं। आगामी चुनाव में भाजपा महाराष्ट्र में शिवसेना से चुनावी गठजोड़ चाहती है। इसके लिए खुद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस दोनों दलों के गठबंधन के लिए पहल करेंगे।

सीएम फडणवीस करेंगे पहल 

बीते गुरुवार को मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात में महाराष्ट्र में सूखा राहत के लिए आर्थिक मदद सहित अन्य विकास योोजनाओं पर दोनों में विस्तृत चर्चा हुई । इस दौरान पीएम मोदी ने महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात पर भी सीएम फडणवीस से चर्चा की। दिल्ली से लौटने के बाद सीएम फडणवीस का रवैया शिवसेना के प्रति उदार हुआ है।
सीएम मुताबिक यदि भाजपा-शिवसेना मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो विपक्षी दल कांग्रेस-एनसीपी की पराजय निश्चित है। वे नहीं चाहते कि शिवसेना के अलग लड़ने से वोटों का विभाजन हो।  दोनों दलों की लंबे समय से चली आर रही मित्रता आगे भी बरकरार रहनी चाहिए।   दोनों में बड़ा और छोटा भाई कौन है, यह कोई मायने नहीं रखता। फडणवीस ने कहा कि वर्ष 2014 का चुनाव दोनों ने अलग-अलग लड़ा था। शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहेब ठाकरे के प्रति पीएम मोदी के मन में आदर है। चुनावी मौसम में पीएम मोदी ने कहा था कि बालासाहेब के प्रति कोई टिप्पणी नहीं होनी चाहिए।
 सीएम फडणवीस का यह बयान उस समय आया है, जब शिवसेना राजस्थान विधानसभा चुनाव में भाजपा के कई उम्मीदवारों की हार शिवसेना प्रत्याशियों के कारण होने के दावे कर रही है। शिवसेना पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे आगामी चुनाव स्वयंबल पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। सीएम फडणवीस के मुताबिक वर्ष 2019 का लोकसभा और विधानसभा चुनाव पीएम मोदी की अगुवाई में लड़ा जाएगा। इस दौरान धनगर आरक्षण के मामले में बोलते हुए सीएम फडणवीस ने कहा कि यह मसला राज्य नहीं बल्कि केंद्र सरकार के आधीन है। राज्य सरकार धनगर समाज को आरक्षण देने के संबंध में  केंद्र सरकार से सिफारिश करेगी। जल्द केंद्र सरकार को सिफारिश भेजी जाएगी। केंद्र सरकार शीघ्र इस पर फैसला लेगी। आदिवासी आरक्षण को ठेस पहुंचाए बगैर धनगर समाज कोो अलग से आरक्षण दिया जाएगा।
Download PDF

Related Post