बुलेट ट्रेन का सपना पूरा करेगी भाजपा सरकार!

Download PDF

नहीं रद्द होगी परियोजना –  फडणवीस

मुंबई- अहमदाबाद और मुंबई के बीच प्रस्तावित बुलेट ट्रेन परियोजना किसी भी कीमत पर रद्द नहीं होगी। इस परियोजना से न केवल प्रदेश का आर्थिक विकास होगा बल्कि रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। यह घोषणा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को विधान परिषद में की।

जब देश में हवाई सेवा शुरू की गई थी, तब केवल 1 प्रतिशत लोग इसमें यात्रा करते थे। आज भी देश के सिर्फ 3 प्रतिशत लोग ही विमान सेवा का उपयोग करते हैं।  ज्यादातर लोग रेल और सड़क मार्ग से सफ़र करते हैं.

इससे पहले विपक्ष ने बुलेट ट्रेन की उपयोगिता और जापान से लिए जा रहे कर्ज को लेकर विपक्ष ने विधान परिषद में सरकार को घेरा था। इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि बुलेट ट्रेन को सिर्फ सफ़र का जरिया न समझा जाए। यह समय की मांग है। जब देश में हवाई सेवा शुरू की गई थी, तब केवल 1 प्रतिशत लोग इसमें यात्रा करते थे। आज भी देश के सिर्फ 3 प्रतिशत लोग ही विमान सेवा का उपयोग करते हैं। ऐसे में सवाल उठ सकता है कि जब ज्यादातर लोग रेल और सड़क मार्ग से सफ़र करते हैं, तो  हवाईअड्डे बनाने की जरुरत क्या थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र पर ज्यादा कर्ज का बोझ नहीं पड़ेगा क्योंकि धनराशि  तो जापान से मिलनी है।

मुंबई बनेगा अंतरराष्ट्रीय वित्तीय हब

मुख्यमंत्री  के मुताबिक बुलेट ट्रेन से ढांचागत विकास होगा और बुलेट ट्रेन के आस- पास के शहरों का विकास होगा। मुंबई इंटरनेशनल फाइनेंशल सेंटर बनेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बुलेट ट्रेन का किराया सामान्यों को ध्यान में रखकर तय किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार में साल 2012 में परियोजना का करार हुआ था। उन दिनों नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। उन्होंने परियोजना के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा भी की।

चीन से नहीं हुई कोई बातचीत 

मुख्यमंत्री के मुताबिक जापान से लिए जानेवाले कर्ज के लिए पहले 20 साल तक कोई ब्याज नहीं देना है। कर्ज में कोई छुपा ब्याज शामिल नहीं हैं। धनराशि का इस्तेमाल बुलेट ट्रेन बनाने के लिए किया जाएगा, जिससे सीमेंट और स्टील उद्योग को फायदा होगा। मुख्यमंत्री ने साफ किया कि परियोजना के लिए चीन से कोई बातचीत नहीं हुई थी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि इस परियोजना को लेकर सरकार अपने कदम वापस नहीं लेगी। किसी भी कीमत पर बुलेट ट्रेन परियोजना को रद्द नहीं किया जाएगा।

विपक्ष को क्यों है बुलेट ट्रेन पर  एेतराज

इससे पहले कांग्रेस के संजय दत्त और भाई जगताप ने कहा कि मुंबई के उपनगरीय ट्रेनों की हालत ख़राब है। सरकार के पास किसानों को देने के लिए पैसे नहीं हैं। ऐसे में बुलेट ट्रेन पर करोड़ो रुपए खर्च करने का क्या अरथ है। बुलेट ट्रेन का अधिकांश हिस्सा अहमदाबाद में है। बावजूद इसके महाराष्ट्र पर ज्यादा वित्तीय बोझ पड़ रहा है। प्रबंधन संस्थान इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनजमेंट की रिपोर्ट के हवाले से दत्त ने कहा कि बुलेट ट्रेन प्रति दिन 100 राउंड के दौरान 1 लाख से ज्यादा यात्रियों को ले जाएगी, तब जाकर इसका खर्च पूरा हो सकता है। उन्होंने कहा कि मुंबई से गुजरात जाने वाली कई ट्रेनों में 60 प्रतिशत सीटें खाली रहती है, अहमदाबाद जाने के लिए लोगों के पास विमान का विकल्प है। चीन की बुलेट ट्रेन कम लागत की होने के बावजूद जापान से क्यों तालमेल बिठाया गया। भाई जगताप ने कहा कि हमें राज्य की आज की स्थिति देखने की आवश्यकता है। राज्य की आर्थिक स्थिति ख़राब है। बुलेट ट्रेन को लेकर सरकार  सुन्दर तस्वीर पेश करने की कोशिश कर रही है , जो वास्तविकता से परे है। एनसीपी के राहुल नार्वेकर ने भी तकनीक का हवाला देते हुए बुलेट ट्रेन पर आपत्ति जताई।

 

Download PDF

Related Post