हथियारों का कुटीर उद्योग 5 – सरकार से हर बार ठगे जाते हैं सिकलीगर

Posted by - September 26, 2016

Shareसिकलीगरों के लिए यह तो न सनम मिला, न विसाले यार वाली बात हो गई। उन्होंने कुछ पुलिस अफसरान के कहने पर समर्पण तो कर दिया, ढेरों वायदे भी ले लिए लेकिन सरकार ने आज तक उनके लिए कुछ भी नहीं किया है। न कॉंग्रेस ने, न भाजपा ने, न पुलिस ने, न किसी कलेक्टर

Read More

हथियारों का कुटीर उद्योग 4 – पुलिस से परेशान हैं सिकलीगर

Posted by - September 26, 2016

Shareसिकलीगरों का कहना है कि मध्यप्रदेश पुलिस उनके साथ सही बरताव नहीं करती है। उनके लिए ऐसे हालात बनाती है कि वे हर बार एक नई परेशानी में पड़ जाते हैं। उनकी नई पीढ़ी कोई गलत काम न करे तो भी उनके साथ अपराधियों जैसा ही बरताव करती है। यह समुदाय संकट के एक गहन

Read More

हथियारों का कुटीर उद्योग 3 – आदिवासी करते हैं हथियारों की तस्करी

Posted by - September 26, 2016

Shareसिकलीगरों के लिए हथियारों की तस्करी कर रहे हैं स्थानीय आदिवासी। गरीबी और भूख के मारे ये आदिवासी सिकलीकगरों के सबसे करीबी और प्राकृतिक सहयोगी बन कर उभरे हैं। कई बार ये गिरफ्तार हुए हैं, न केवल मध्यप्रदेश में बल्कि पड़ोसी राज्यों महाराष्ट्र, राजस्थान से लेकर असम और केरल तक जैसे सुदूर राज्यों में भी।

Read More

हथियारों का कुटीर उद्योग 2 – कबाड़ से बनते हैं जहां मारक हथियार

Posted by - September 26, 2016

Shareयह है दूसरी किश्त, नौ अंकों के समाचार धारावाहिक की, जिसमें हम बता रहे हैं कि किस तरह देश का एक बहादुर और कमाल का कारीगर समाज अभिशप्त हो चला है… सिकलीगर समाज के उन घरों और हथियार बनाने के कारखानों तक पहुंचा है पहली दफा कैमरा और तैयार हुई यह खोजी दास्तां… दूसरी कड़ी

Read More

हथियारों का कुटीर उद्योग 1 – एक बहादुर कौम का अपराधी हो जाना

Posted by - September 26, 2016

Shareपूरे नौ अंकों में देखें और पढ़ें एक समाज के अभिशप्त हो जाने की पूरी खोजी दास्तां… पहली बार कैमरा उनके हथियार बनाने के कारखानों के अंदर तक पहुंचा है… हमारा मकसद यह दिखाना नहीं है कि ये समाज कितना खतरनाक काम कर रहा है… बल्की यह जताना है कि समाज के इतने अहम हिस्से

Read More