ठाणे-कल्याण-वसई जलमार्ग को केंद्र ने दी मंजूरी 

Download PDF
मुंबई- ठाणे-कल्याण-वसई जल परिवहन का बेसब्री से इंतजार कर रहे ठाणे निवासियों को जल्द खुश खबरी मिलनेवाली है।  पहले चरण में 100 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले जेट्टी (घाट) का जल्द काम शुरू कर दिया जाएगा। ठाणे महानगरपालिका द्वारा तैयार किए गए डीपीआर को केंद्र सरकार ने अनुमति प्रदान कर दी है। ठाणे-कल्याण-वसई जलमार्ग परियोजना को 645 करोड़ रुपए की लागत से बनाया जाना है। यह पूरी धनराशि केंद्र सरकार देगी। इसमें से 100 करोड़ रुपए की पहली किस्त जेएनपीटी को वर्गीकृत की जाएगी।

645 करोड़ की लागतवाली परियोजना का काम जल्द होगा शुरू

ठाणे और उसके आगे के यात्रियों को सक्षम और किफायती विकल्प उपलब्ध हो इसलिए  शिवसेना सांसद डॉ. श्रीकांत शिंदे और राजन विचारे बीते चार साल से केंद्र सरकार से फीडबैक ले रहे थे। पालकमंत्री एकनाथ शिंदे भी इस काम के लिए हरसंभव सहयोग दे रहे थे। केंद्र सरकार ने कल्याण-ठाणे-मुंबई जलमार्ग को राष्ट्रीय जल मार्ग का दर्जा दिया है। शिवसेना के प्रयास के बाद ठाणे मनपा आयुक्त संजीव जयस्वाल ने पहल करते हुए पूरी परियोजना का डीपीआर तैयार करके उसका प्रस्तुतिकरण केंद्रीय परिवहन मंत्री मंत्री नितिन गडकरी के समक्ष किया था। कल्याण-ठाणे-वसई और कल्याण-ठाणे-मुंबई  इन दो चरणों में इस परियोजना का काम पूरा किया जाना है। पहले चरण में 645 करोड़ रुपए की लागतवाले कल्याण-ठाणे-वसई जलमार्ग को पूरा करने की मंजूरी केंद्र ने दी है।
श्रीकांत शिंदे के मुताबिक इस परियोजना के लिए 100 करोड़ रुपए जेएनपीटी को दिए जाएंगे। इसके अंतर्गत डोंबिवली, काल्हेर, कोलशेत और मीरा रोड में चार जेट्टी का निर्माण किया जाएगा। केंद्र सरकार के अधीन जेएनपीटी, ठाणे मनपा की सलाह पर काम करेगा। जैसे-जैसे काम पूरा होता जाएगा, वैसे-वैसे धनराशि केंद्र सरकार से मिलती रहेगी। शिंदे के अनुसार परियोजना से ठाणे और उसके आगे के यात्रियों को रेलवे के अलावा  परिवहन का सक्षम और कीफायती विकल्प उपलब्ध हो सकेगा। शीघ्र इस परियोजना का काम पूरा हो और यात्रियों को सेवा उपलब्ध हो, इसलिए शिवसेना लगातार फीडबैक लेती रहेगी।  
Download PDF

Related Post