मंत्रालय में चूहा घोटाला, हर दिन मारे गए 9 टन चूहे!

Download PDF
मुंबई-समंत्रालय के विभिन्न विभागों में अनेकों घोटाले की खबर आए दिन आती रहती है। परंतु गुरूवार को विधान सभा में भाजपा नेता व पूर्व राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे ने चूहा घोटाला का मुददा उठाकर पूरे सदन को सकते में ला दिया। सदन में एकनाथ खडसे ने कहा कि मुंबई महानगरपालिका ने दो वर्ष में छह लाख चूहे मारती है। जबकि मंत्रालय में एक सप्ताह यानि ३ मई २०१६ से १० मई २०१६ तक ३ लाख १९ हजार ४ सौ चूहों के मारने का कारनामा कर दिखाया है।
सात दिन के अंदर मंत्रालय में ३१९४०० चूहे मारे गए है, प्रत्येक दिन ४४६२८.५७ चूहे मारे गए है, प्रत्येक घंटा १९०१.१९ चूहे और प्रत्येक मिनट ३१.६८ चूहे मारे गए है। यानी प्रत्येक दिन मारे गए चूहे का वजन ९१२५.७१ था। यानी ९ टन १२५ किलो (एक ट्रक चूहे मारने का रिकार्ड) दर्ज किया गया है।
भाजपा नेता व पूर्व राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे.
खड़से ने कहा कि वर्क आर्डर क्रमांक १३१ व १३२ में जो करारनामा रजिस्टर में किया गया है, उसमें छह महीने की अवधि दिखाई गई है, जबकि वर्क आर्डर में काम की अवधि दो महीने दिखाई गई है, मोजमाप पुस्तिका में उक्त काम को पूरा होने की अवधि सात दिन दिखाई गई है। सात दिन के अंदर मंत्रालय में ३१९४०० चूहे मारे गए है, प्रत्येक दिन ४४६२८.५७ चूहे मारे गए है, प्रत्येक घंटा १९०१.१९ चूहे और प्रत्येक मिनट ३१.६८ चूहे मारे गए है। यानी प्रत्येक दिन मारे गए चूहे का वजन ९१२५.७१ था। यानी ९ टन १२५ किलो (एक ट्रक चूहे मारने का रिकार्ड) दर्ज किया गया है। खडसे ने सवाल किया इतने भारी पैमाने पर मारे गए चूहे को दफनाया या विल्हेवाट कहा किया गया, कौन किया, वह जगह दिखाएगे क्या कि कैसे चूहो को दफन किया गया? उन्होने कहा कि मंत्रालय में विष ले जाने की अनुमति सामान्य प्रशासन व गृह विभाग ने दिया, ऐसा कागजपत्र में नहीं दिखाई दे रहा है।
 खड़से ने सवाल उठाया कि मंत्रालय  में गृह विभाग व सामान्य प्रशासन विभाग की अनुमति के बिना विष कैसे गया। ऐसा सवाल खडसे ने किया। जिस संस्था को चूहा मारने का काम दिया गया था उस संस्था को विष प्राप्त करने की अनुमति है क्या? मंत्रालय के जिस मंजिल पर या जिस विभाग में विष रखा गया था, उस विभाग के प्रमुख से विष रखने की अनुमति ली गई है, ऐसा उपलब्ध कागजपत्र में नहीं दिखाई दे रहा है। खडसे ने कहा कि मंत्रालय में किसान धर्मा पाटील ने जिस विष को पीकर आत्महत्या की थी। वह विष चूहा मारने वाली थी। खडसे ने चूहा मारने में हुए कथित घोटाले की जांच कराने की मांग की।
Download PDF

Related Post