शिवसेना को संदेश,  हम भी रखते हैं एकला चलो का दम   

Download PDF
मुंबई। एकला चलो का दम भरनेवाली शिवसेना को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने यह कहते हुए संदेश दिया है कि शिवसेना से अलग होकर भी भाजपा आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव जीतने की ताकत रखती है। इसका ताजा उदाहरण पालघर लोकसभा उपचुनाव में देखने को मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में शिवसेना से गठबंधन करने का भाजपा प्रयास करेगी, परंतु दोनों दलों में समझौता नहीं हुआ तो भाजपा अपने दम पर पूरी ताकत के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा पालघर की जीत ने साबित कर दिया है, शिवसेना के बिना भी भाजपा चुनाव जीत सकती है। केंद्र सरकार को चार साल पूरे हो चुके हैं। अगला एक साल चुनाव की तैयारियों का है। इस एक वर्ष में सभी पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सरकारी योजनाओं और उपलब्धियां की जानकारी घर-घर पहुंचानी है।
भाजपा के दादर स्थित वसंत स्मृति कार्यालय में सोमवार को पार्टी पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों की बैठक बुलाई गई थी। मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों को आगामी चुनाव की तैयारी में अभी से पूरी ताकत से जुट जाने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा पालघर की जीत ने साबित कर दिया है, शिवसेना के बिना भी भाजपा चुनाव जीत सकती है। केंद्र सरकार को चार साल पूरे हो चुके हैं। अगला एक साल चुनाव की तैयारियों का है। इस एक वर्ष में सभी पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सरकारी योजनाओं और उपलब्धियां की जानकारी घर-घर पहुंचानी है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को गुरुमंत्र दिया कि छत्रपति शिवाजी महाराज ने एक बार युद्ध की तैयारी के संबंध में पत्र लिखा था, जिसे जरूर पढ़ा जाए। युद्ध के लिए क्या-क्या तैयारी की जाती है, उसका पत्र में बारिकी से विश्लेषण किया गया है। संवाद और सूक्ष्म योजना का महत्व समझाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सभी पार्टियां उठ खड़ी हुई हैं। यैसी स्थिति निर्माण करने की कोशिश की जा रही है। परंतु इससे विचलित होने की जरूरत नहीं है। हमें अपनी पूरी तैयारी करके रखनी है। सभी पार्टियां एकसाथ आ रही हैं, तो हमें और ताकत के साथ मैदान में उतरना होगा। इसके लिए पार्टी कार्यकर्ता सक्षम हैं। बूथस्तर तक संगठन को मजबूत बनाने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया है।
पार्टी प्रदेश अध्यक्ष रावसाहेब दानवे पाटिल के मुताबिक गठबंधन दोनों तरफ से होता है। इसके लिए शिवसेना को भी पहल करनी पड़ेगी। समान विचारधारावाली पार्टियों को साथ लाने का प्रयास भाजपा कर रही है। दानवे पाटिल ने कहा कि हमारी कोशिश है भाजपा- शिवसेना साथ रहें, जिससे विपक्ष को आसानी से मात दी जा सकती है। शिवसेना ने गठबंधन में दिलचस्पी नहीं दिखाई तो भाजपा ने भी अपने दम पर चुनाव में उतरने की पूरी तैयारी कर रखी है। मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष दानवे की इस घोषणा के बाद साफ हो गया है कि भाजपा भी आगामी चुनाव अपने दम पर लड़ने का मन बना चुकी है। शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे दावा कर चुके हैं कि शिवसेना आगामी चुनाव स्वयंबल पर लड़ेगी। उनका फैसला अटल है। बैठक में भाजपा राष्ट्रीय सहसंगठन मंत्री वी. सतीश, भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे, राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल, वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार, शिक्षा मंत्री विनोद तावडे और वरिष्ठ नेता एकनाथराव खडसे आदि मौजूद थे।
Download PDF

Related Post