कालेज प्राध्यापकों का कल से प्रदेशव्यापी ‘असहयोग आंदोलन’

Download PDF

भोपाल, मध्यप्रदेश के कालेज प्राध्यापक सातवें वेतनमान लागू किए जाने की माँग को लेकर कल से प्रदेशव्यापि “असहयोग आंदोलन” पर जा रहे हैं, जिससे कलेजों की प्रवेश प्रक्रिया पर गहरा असर पड़ सकता है.  प्रांतीय महाविद्यालय प्राध्यापक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष डॉक्टर कैलाश त्यागी ने एक प्रेस कानफ़्रेंस में कहा कि आंदोलन के दौरान प्रदेश भर के प्राध्यापक छुट्टी के दिन छात्रा प्रवेश प्रक्रिया का कार्य नहीं करेंगे.

डॉ. त्यागी ने कहा कि यह अत्यंत खेदजनक है जिस राष्ट्र में शिक्षकों का सम्मान नहीं जो मानव संसाधन का निर्माण करते हैं तो वह देश कैसे प्रगति करेगा जीडीपी में बढ़ोतरी मशीनों से नहीं मानव संसाधन विकास से होती है मूर्त रुप देने वाले शिक्षक जिन्हें शासन द्वारा अन्य कोई भी सरकारी सुविधाएं केवल अपने वेतन पर निर्भर होते हैं और उस पर भी 30% इनकम टैक्स देते हैं उसके बावजूद शासन का रवैया उनके प्रति इतना सौतेला क्यों है.

प्रांतीय प्राध्यापक संघ द्वारा आयोजित प्रेस वार्ता में एक बहुत ही  अभिभूत कर देने वाला  नजारा उपस्थित हुआ, जब प्रांतीय अध्यक्ष डॉक्टर कैलाश त्यागी एवं महासचिव डॉक्टर आनंद शर्मा द्वारा एक नई पहल की गई और प्रेस वार्ता को वहां उपस्थित महिला पदाधिकारियों एवं प्राध्यापकों को कुछ देर के लिए सौंप दी गई. यह अपने आप में एक बहुत ही सम्मानजनक एवं नारी शक्ति का सम्मान कर देने वाला  पल था, जब समस्त महिला पदाधिकारी प्रेस वार्ता को संबोधित कर रही थी एवं प्रांतीय नेतृत्व स्वयं कुर्सी छोड़ कर खड़े हो गए थे.

3 जुलाई 2018 को प्रांतीय महाविद्यालय प्राध्यापक संघ भोपाल मध्य प्रदेश द्वारा आगामी 5 जुलाई 2018 को प्रारंभ हो रहे आंदोलन की वृहद रूपरेखा पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भोपाल के रविंद्र भवन में आयोजित की गयी. प्रेस वार्ता में श्री त्यागी ने कहा कि शिक्षकों को हमेशा अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करना पड़ता है और सड़कों पर उतरना पड़ता है बिना लड़ाई लड़े हमें क्यों कोई भी वेतनमान आसानी से शासन द्वारा नहीं दिया जाता है चाहे वह पांचवा वेतनमान हो छठवां वेतनमान हूं और यह सातवां वेतनमान हर बार प्राध्यापकों को अपने अधिकारों के लिए लंबा संघर्ष करने के उपरांत ही वेतनमान दिया जाता है

प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रांतीय अध्यक्ष डॉक्टर कैलाश त्यागी महासचिव डॉ आनंद शर्मा भोपाल संभाग के अध्यक्ष डॉक्टर प्रमोद तामोट, भोपाल संभाग की सचिव डॉ राजकुमार सुधीर, प्रांतीय कोषाध्यक्ष डॉक्टर सुधांशु धर द्विवेदी, भोपाल जिले की अध्यक्ष डॉ वंदना श्रीवास्तव, प्रांतीय उपाध्यक्ष डॉ प्रतिभा सिंह प्रभात पांडे, डॉ सीमा पाठक, डॉ शरद तिवारी, डॉक्टर महेंद्र सिंह, डॉ अशोक शर्मा, डॉ प्रीति पचौरी एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

उल्लेखनीय है की मध्य प्रदेश शासन के सभी शासकीय कर्मचारियों को सातवां वेतनमान दिया जा चुका है किंतु विश्वविद्यालय एवम महाविद्यालय प्राध्यापकों क्रीड़ा अधिकारी एवं ग्रंथपाल को वेतनमान की घोषणा हेतु आंदोलन की राह में जाने को मजबूर किया जा रहा है. छात्र हित को ध्यान में रखते हुए प्रांतीय प्राध्यापक संघ नेतृत्व ने बहुत ही विवेकपूर्ण तरीके से चरणबद्ध आंदोलन की समय सारणी घोषित की है और अपने शिक्षकीय दायित्वों का निर्वहन किया है किंतु अत्यंत खेद है कि शासन प्रशासन अभी तक सो रहा है. शिक्षक क्लास रूम छोड़ कर सड़क पर आंदोलन के लिए खड़े होने को मजबूर है.

 

 

Download PDF

Related Post