कांग्रेस ने की मनपा आयुक्त अजोय मेहता को निलंबित करने की मांग

Download PDF
मुंबई- बीएमसी में तथाकथित 500 करोड़ रुपए की जमीन घोटाला मामले में कांग्रेस ने मनपा आयुक्त अजोय मेहता का इस्तीफा मांगा है। इस संबंध में मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को पत्र लिखकर मेहता को निलंबित करने की मांग की है।

मुख्यमंत्री को लिखा पत्र 

निरूपम ने जमीन घोटला प्रकरण में जोन-1 के पुलिस आयुक्त के पास बुधवर को शिकायत दर्ज कराई थी। जोगेश्वरी पूर्व के बांद्रेनगर में  13 हजार वर्ग मीटर भूखंड में 500 करोड़ रुपए घोटाला होने का आरोप निरूपम ने लगया है।  निरूपम के मुताबिक मनपा के वर्ष 1991 के डीपी प्लान मेें यह भूखंड शामिल था। जिसे अस्पताल और मनोरंजन उद्यान के लिए आरक्षित किया गया था। बीएमसी और आयुक्त मेहता ने जान-बूझकर लेटलतीफी की। लिहाजा मनपा को यह जमीन हमेशा के लिए गंवानी पड़ी है।  मनपा आयुक्त ने षडयंत्र रचकर भूखंड के मूल मालिक को वापस दिला दी है। निरूपम के मुताबिक यह बड़ा अपराध और घोटाला है। घोटाले में शामिल मुख्य आरोपी आयुक्त मेहता और संबंधित विभागों के मनपा अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।
 निरुपम  के मुताबिक पिछले 10 वर्ष में कोई निर्माणकार्य नहीं किया। भूखंड के मूल मालिक शुक्ला ने भूखंड वापस लेने के लिए हाईकोर्ट में अपील की थी।  अदालती सुनवाई में भी मनपा के वकील मौजूद नहीं थे। लिहाजा मनपा केस हार गई।  हाईकोर्ट के फैसले को मनपा ने सुप्रीम कोर्ट चुनौती दी थी। लेकिन वहां भी मनपा का  वकील हाजिर नहीं था। पूरा दोष मनपा के विधि विभाग पर मढ़ा गया। निरूपम ने आरोप लगाया कि आयुक्त मेहता ने अधिकारियों को लिखित आदेश दिया था कि सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा दर्ज नहीं करना है।जिस मनपा अधिकारी स्वप्नील पुराणिक को मनपा ने जेल भेज दिया। वह अभी जेल में है। अपना घोटाला छुपाने के लिए मनपा आयुक्त छोटे अधिकारियों पर कार्रवाई करने का नाटक कर रहे हैं। निरूपम ने मृतक चपराशी वाल्मिकी मामले की भी जांच कराने की मांग की है।
Download PDF

Related Post