मोदी व शाह के इशारे पर काम कर रहे कर्नाटक के राज्यपाल – कांग्रेस का आरोप

Download PDF
मुंबई- कर्नाटक विधानसभा में बहुमत हासिल करने के लिए भाजपा को शनिवार को समय दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का कांग्रेस ने स्वागत किया है। कांग्रेस और एनसीपी का आरोप है, भाजपा लोकतंत्र की हत्या करना चाहती है। लग रहा है कि राज्यपाल देश चला रहे हैं। गोवा, मणिपुर, मेघालय और कर्नाटक में राज्यपाल ने भाजपा के दवाब में फैसले लिए थे। राजभवन सत्ता का केंद्र बनता जा रहा है। कांग्रेस और एनसीपी ने कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला को हटाने की मांग की है।
पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जोड़ी राज्यपाल पर दबाव बना कर अपने पक्ष में फैसले लेने के लिए उन्हें मजबूर कर रहे हैं। भाजपा सत्ता का दुरूपयोग कर रही है।
कांग्रेस ने शुक्रवार को राज्य के सभी जिलों में लोकतंत्र बचाओ दिवस का आयोजन किया। मुंबई कांग्रेस ने आजाद मैदान में आंदोलन किया। आंदोलन में चव्हाण के अलावा मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम, सुरेश शेट्टी, एकनाथ गायकवाड, चरणसिंह सप्रा, भाई जगताप सहित बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता शामिल थे। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जोड़ी राज्यपाल पर दबाव बना कर अपने पक्ष में फैसले लेने के लिए उन्हें मजबूर कर रहे हैं। भाजपा सत्ता का दुरूपयोग कर रही है। कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला आरएससएस के कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं। सत्ता हासिल करने के लिए भाजपा विपक्षी विधायकों पर दवाब बनाने के साथ ही उन्हें पैसे का ऑफर दे रही है। चव्हाण ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से लोकतंत्र का सम्मान करती रही है। उन्होंने दावा किया कि शनिवार को भाजपा सरकार गिर जाएगी।
विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि राज्यपाल के फैसले से संविधान की गरिमा को ठेस पहुंची है। उन्हें तुरंत कार्यमुक्त कर दिया जाना चाहिए। संजय निरुपम के अनुसार कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार बनेगी। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सत्ता के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। भाजपा की ओर से सरकारी संस्थाओं पर कब्ज़ा हासिल करने का प्रयास जारी है। यह तय है कि कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस बहुमत हासिल करने के बाद सरकार का गठन करेगी। एनसीपी ने भी कर्नाटक में चल रही सियासी खींचतान की आलोचना की है।

लोकतंत्र की हत्या -एनसीपी 
एनसीपी के प्रदेशाध्यक्ष जयंत पाटिल ने सुर्वोच्च न्यायालय के फैसले को भाजपा के लिए बड़ा झटका बताया है। पाटिल के मुताबिक इससे साफ हो गया है कि बहुमत के लिए राज्यपाल की ओर से 15 दिन का दिया गया समय कितना गलत था। पाटिल ने विश्वास जताया कि भाजपा बहुमत हासिल नहीं कर पाएगी। इसके बाद कांग्रेस व जनता दल ( सेक्युलर ) मिलकर आसानी से सरकार बनाएंगे। पाटिल ने आरोप लगाया कि कांग्रेस और जेडीएस पास बहुमत के लिए पर्याप्त संख्याबल मौजूद है। भाजपा को सरकार बनाने के लिए बुलाना लोकतंत्र की हत्या है।
Download PDF

Related Post