कांग्रेस नेता गुरुदास कामत अनंत में विलिन 

Download PDF

मुंबई-  पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत गुरुदास कामत के चेंबूर स्थित निवास स्थान पर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उनके पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पण करके उन्हें श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कामत के परिवार के सदस्यों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी।

कामत के निधन पर कांग्रेस में शोक की लहर

शिक्षा मंत्री विनोद तावडे, गृह निर्माण मंत्री प्रकाश महेता, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, सांसद मल्लिकार्जुन खरगे, विधायक सरदार तारासिंह, भाई जगताप, प्रसाद लाड, नसीम खान, जनार्दन चांदूरकर, पूर्व मंत्री विलास मुत्तेमवार, संजय निरुपम आदि विभिन्न क्षेत्र को लोगों ने गुरुदास कामत के पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन किया। दिवंगत गुरुदास कामत का अंतिम संस्कार गुरुवार को किया गया। बुधवार को कामत का दिल के दौरा पड़ने से नई दिल्ली में निधन हो गया था।

कामत के निधन पर कांग्रेस में शोक की लहर है। पार्टी के सभी नेताओं दुख जताया है। राज्यपाल सी. विद्यासागर राव और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित तमाम राजनेताओं ने अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं। कामत ने मंगलवार की देर रात 11.47 पर आखिरी ट्वीट कर बकरीद की बधाई दी थी।दिवंगत गुरुदास कामत का जन्म कर्नाटक में स्थित अंकोला में 5 अक्टूबर 1954 को हुआ था लेकिन वह मुंबई के कुर्ला में अपने पिता वसंत आनंदराव कामत के साथ रहते थे। उनके पिताजी प्रीमियर कंपनी में काम करते थे। इस प्रकार घर में कोई राजनीतिक विरासत न होते हुए भी कामत वर्ष  1970 से ही विद्यार्थी नेता के रुप में वह सक्रिय थे। उन्हें वर्ष 1980 में महाराष्ट्र प्रदेश युवक कांग्रेस के महासचिव पद पर नियुक्त किया गया। साल 1984 में उन्हें महाराष्ट्र युवक कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया था। उनकी सक्रियता व गतिशीलता को देखते हुए 1984 में कांग्रेस पार्टी ने कामत को युवक कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया था। कामत ईशान्य मुंबई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से पांच  बार सांसद चुने गए थे। उनकी संगठन क्षमता को देखते हुए कांग्रेस हाईकमान ने वर्ष  2003 में मुंबई कांग्रेस की बागडोर उन्हें सौपी थी, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी की ऐतिहासिक सभा का आयोजन शिवाजी पार्क मैदान पर किया था।

गुरुदास कामत गांधी परिवार के निकटतम नेताओं में रहे, लेकिन 2017 में पार्टी में चल रहे अंतर्गत विवाद की वजह से उन्होंने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था। उस समय वह अखिल भारतीय कांग्रेस के सदस्य थे और उन्हें गुजरात, राजस्थान, दादर तथा नगर हवेली, दमन दीव राज्यों की जिम्मेदारी दी गई थी। 2009 से 2011 तक कामत को केंद्रीय मंत्रिमंडल में गृह राज्यमंत्री बनाया गया था। साथ ही उन्होंने सूचना प्रसारण विभाग के राज्यमंत्री का पदभार भी कुछ समय के लिए संभाला था। स्वभाव से सरल गुरुदास कामत हर किसी के लिए सदैव उपलब्ध रहते थे और किसी भी अप्रिय सवाल पर भी उत्तेजित न होना उनकी खासियत थी।

Download PDF

Related Post