धारावी को दुबई की कंपनी को बेचने की साजिश !

Download PDF
मुंबई- एसिया के सबसे बड़ी झोपड़पट्टी कहे जानेवाली धारावी की बहुप्रतिक्षित पुर्नविकास योजना फिर उलझती नजर आ रही है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने धारावी की 600 एकड़ जमीन दुबई की कंपनी कोे बेचने का आरोप लगाया है। पार्टी प्रवक्ता नवाब मलिक का दावा है जल्द इस संबंध में कपंनी के नाम सहित पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा।

एनसीपी का सनसनीखेज आरोप

हाल में मंत्रिमंडल की बैठक में राज्य सरकार ने धारावी पुनर्विकास परियोजना को विशेष परियोजना का दर्जा देने का निर्णय किया है। इसके लिए एसपीवी मॉडल पर अमल किया जाएगा। मॉडल में मुख्य भागीदार का 80 प्रतिशत और राज्य सरकार की 20 फीसदी हिस्सेदारी होगी। परंतु एनसीपी ने धारावी की 600 एकड़ जमीन दुबई की कंपनी को बेचने का आरोप लगाकर हलचल मचा दी है। मलिक के मुताबिक धारावी पुनर्विकास का टेंडर प्रक्रिया शुरू होने पर कंपनी के नाम के सहित पूरे प्रकरण का खुलासा किया जाएगा। इसके अलावा मलिक ने आरोप लगाया कि विकास कार्यों के नाम पर महानगर में 90 हजार झोपड़े तोड़े गए हैं।  इनमें पांच हजार को पात्र ठहराया गया है जबकि 85 हजार झोपड़ाधराकों को अपात्र ठहरा कर उन्हें बेघर कर दिया गया है। भाजपा के लोग दलाली कर रहे हैं। मलिक के अनुसार चार वर्ष पूरा करने जा रही फडणवीस सरकार ने जनता से साथ वादाखिलाफी की है। डूइंग  आफ बिजनेस के नाम पर भाजपा के कार्यकर्ता गुंडागर्दी पर उतर आए हैं और हफ्ताउगाही कर रहे हैं। उद्योगधंधे बंद हो रहे हैं या फिर अन्य राज्यों में पलायन कर रहे हैं।
 
याद दिला दें कि  धारावी पुनर्वास परियोजना लंबे समय से उलझी हुई है। वर्ष 2007-2011 और वर्ष  2016 में मंगाई गई दो निविदा प्रक्रिया की पांच बार समय सीमा बढ़ाई जा चुकी है। बावजूद इसके अपेक्षित प्रतिसाद नहीं मिला। इमारतों की उंचाई, व्यापार, औद्योग‍िक गाले, अधिक जनसंख्या, संपत्ति का म‍िश्रण जैसे विभिन्न मसलों को लेकर परियोजना उलझी हुई है। सरकार का दावा है परियोजना को विशेष दर्जा मिलने के बाद विकास को गति मिलेगी। सेक्टर 1 से 5 को एक करके परियोजना का एकात्मिक मास्टर प्लान तैयार किया जाएगा। माटुंगा-दादर स्थित करीब 90 एकड़ रेलवे की जमीन और आस-पास की 6.91 हेक्टेयर जमीन परियोजना में समाहित की जाएगी।
एक नंवबर से गांव-गांव लगेगी चौपाल 
भाजपा की विकास यात्रा के विरोध में एनसीपी ने एक नवंबर से गांव-गांव में चौपाल लगाने का निर्णय लिया है। पार्टी प्रदेश मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए मलिक ने फडणवीस सरकार के चार साल के कार्यकाल को विफल बताया। इसी महीने की 31 तारीख को फडणवीस सरकार अपने चार साल पूरा कर रही है। मलिक के मुताबिक एक नवंबर से राकांपाई प्रदेशभर के सभी गांवों में जाकर चौपाल लगाएंगे। मोदी और फडणवीस सरकार की विफलता, वादाखिलाफी, गैर जिम्मेदाराना फैसले, बिगड़ी कानून-व्यवस्था, किसान कर्ज माफी, किसान आत्महत्या, सिंचाई. आयुष्यमान स्वास्थ्य योजना, बेरोजगारी, राशन दुकानों में धांधली, जलशिवार योजना में घपले आदि मामलों की जानकारी जनता को दी जाएगी।
Download PDF

Related Post