सहकारिता मंत्री देशमुख फिर आरोपों के घेरे में 

Download PDF
मुंबई- राज्य के सहकारिता मंत्री सुभाष देशमुख पर फिर से भ्रष्टाचार के कीचड़ उछले हैं। कांग्रेस ने उन पर फर्जी दस्तावेज के आधार पर  सोलापुर की लोकमंगल मल्टीस्टेट को ऑप सोसायटी लिमिटेड से  दुग्ध व्यवसाय परियोजना के लिए, 24 करोड़ 81 लाख रुपए का अनुदान मंजूर करा कर, उसमें से 5 करोड़ रुपए लेने का आरोप लगाया है।
लोकमंगल सोसायटी में 24 करोड रुपए का भ्रष्टाचार, कांग्रेस ने मांगा इस्तीफा 
कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष संजय निरूपम ने आरटीआई का हवाला देते हुए यह आरोप लगाया है। निरूपम ने पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कर देशमुख और उनके पुत्र रोहन देशमुख पर कार्रवाई करने की मांग की है। सुभाष देशमुख को मंत्री पद से हटाने की मांग भी की गई है। निरूपम के मुताबिक दूध का पावडर बनाने की परियोजना स्थापित करने के लिए जमीन का एनए आर्डर, प्रदूषण लाइसेंस, निर्माणकार्य के लिए पीडब्ल्यूडी से अनुमति, अन्न व औषधि प्रशासन लाइसेंस, एमएसईबी लाइसेंस, कलेक्टर कार्यालय, कारखाना अधिनियम लाइसेंस, दुग्ध प्रक्रिया, दुग्ध संकलन के लिए सभी विभागों से लिए गए दस्तावेज फर्जी हैं। इस पूरे मामले की जानकारी सोलापुर के जिला दुग्ध व्यवसाय विकास अधिकारी ने 4 अक्टूबर 2018 को पत्र द्वारा प्रादेशिक दुग्ध व्यवसाय विकास अधिकारी को दी है। लोकमंगल मल्टीस्टेट संस्था का दुध प्रक्रिया केंद्र करमाला, सांगोला, मंगलवेढा और बीबीदारफल में बंद पाया गया है।
 निरुपम के मुताबिक देशमुख विवादित और बदनाम मंत्री हैं। इससे पहले भी उनके कई मामलों का खुलासा हुआ है। नोटबंदी के समय उनकी गाड़ी से 92 लाख रुपए मिले थे। किसानों के फर्जी कागजात तैयार करके उन्होंने सरकार से पैसे लिए हैं। अग्निशमन दल के लिए आरक्षित जमीन पर उन्होंने आलीशान बंगला बनाया है। साबित हो चुका है कि उनका बंगला अवैध है। सेबी ने उनके लोकमंगल अग्रो इंडस्ट्रीज के गैर-कानूनी कामकाज को लेकर नोटिस भेजी है। कई घोटालों में लिप्त होने के बावजूद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस उनको संरक्षण दे रहे हैं।
 
निरूपम ने बताया कि जब देशमुख लोकमंगल मल्टीस्टेट को ऑप. सोसायटी लिमिटेड के अध्यक्ष तभी फर्जी दस्तावेज तैयार करके सरकार के साथ धोखाधड़ी की गई थी। मौजूदा समय में उनके बेटे रोहन देशमुख इस संस्था के अध्यक्ष हैं। निरूपम ने घाटकोपर के कांग्रेसी कार्यकर्ता मनोज दूबे हत्याकांड मामले में लिप्त भाजपा कार्यकर्ताओं पर कठोर कार्रवाई करने की मांग की है। मनोज ने फेसबुक पर वर्ष 2019 में कांग्रेस की सरकार बनने की पोस्ट डाली थी। इससे नाराज होकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने रविवार को मनोज पर धारदार हथियारों से हमला किया था। इस हमले में मनोज की  मृत्यू हो गई। पुलिस ने इस मामले में तीन को गिरफ्तार किया है।
Download PDF

Related Post