समुद्री सुरक्षा के लिए मुंबई से गोवा तक मोटर साइकिल रैली 

Download PDF
मुंबई-समुद्री सुरक्षा और मछुआरों को खतरे से आगाह करने के मकसद से कोस्ट गार्ड की ओर से मोटर साइकिल रैली का आयोजन किया गया है। यह रैली मुंबई और गोवा के पांच तटीय जिलों से होते हुए 1340 किमी का सफर तय करेगी। पशु, दुग्ध और मत्स्य व्यवसाय मंत्री महादेव जानकर ने शनिवार को रैली को हरी झंडा दिखाकर रवाना किया।
तटीय जिलों के युवक-युवतियों को तटरक्षक दल की भर्ती प्रक्रिया की जानकारी देने के साथ ही, उन्हें प्रोत्साहित करने का काम इस रैली के माध्यम से होगा।
भारतीय तट रक्षक दल (कोस्ट गार्ड) के वरली स्थित मुख्यालय से रवाना हुई रैली में कोस्ट गार्ड के 25 और अन्य 15 मोटर साइकिल सवार शामिल हैं। मोटार साइकिल रैली महाराष्ट्र और गोवा के पांच तटीय जिलों से होकर गुजरेगी। मुंबई, रायगड, रत्नागिरी, सिंधूदुर्ग, पणजी इन पांच जिलों से होते हुए रैली तकरीबन 1340 किमी का सफर तय करेगी। दस जून को दोपहर 3 बजे वरली, मुंबई में रैली समाप्त होगी। तटीय जिलों के युवक-युवतियों को तटरक्षक दल की भर्ती प्रक्रिया की जानकारी देने के साथ ही, उन्हें प्रोत्साहित करने का काम इस रैली के माध्यम से होगा। यह रैली कोस्ट गार्ड, राज्य सरकार के मत्स्य व्यवसाय विभाग, सागरी पुलिस, सीमा सुरक्षा दल और ओएनजीसी आदि के साझे में निकाली गई है।
 जानकर के मुताबिक कोस्ट गार्ड, सागरी पुलिस, मत्स्य व्यवसाय विभाग, खुफिया विभाग में अटूट नाता है। तीनों विभागों में बेहतर तालमेल रहा तो समुद्र में होनेवाली गतिविधियों की जानकारी तत्काल मिल सकती है, जिससे खतरे से बचा जा सकता है। गहरे समुद्र में मछली मारने गए मछुआरों को तुफान, खराब मौसम आदि प्राकृतिक आपदा के समय कोस्ट गार्ड तुरंत मदद पहुंचाता है। कोस्ट गार्डस् कमांडर (पश्चिम विभाग) महानिरीक्षक विजय चाफेकर ने बताया कि समुद्री तटों पर बसे गावों में जाकर नागरिकों तथा स्थानीय मछुआरों तक संदेश सुरक्षा का संदेश दिया जाएगा। साथ ही कोस्ट गार्ड में भर्ती होने की जानकारी युवाओं को दी जाएगी। समुद्र में खतरों, मछली मारनेवाली विदेशी जहाजों, अवैध नौकाओं की जानकारी कई बार मछुआरों को जल्दी मिलती है। यह जानकारी कोस्ट गार्ड को देने पर संभावित खतरे से समुद्री सीमा की सुरक्षा करना संभव हो सकेगा।
चाफेकर के मुताबिक कोस्ट गार्डस् व्यापारी जहाजों को सुरक्षा देने का काम करता है। जहाजों में इलेक्ट्रॉनिक देखरेख प्रणाली बिठाए जाने से जहाजों के आपस में टकराने का प्रमाण कम हुआ है। मछली मारनेवाली नौकाओं में डिस्ट्रेस्ड एलार्म ट्रान्समिशन (डॅट) मशीनरी लगाए जाने से संकट में फंसी नौकाओं को तत्काल मदद पहुंचाने में मदद मिल रही है। मछुआरों को जीवन रक्षक जैकेट वितरण आदि के लिए ओएनजीसी तथा अन्य कंपिनयों की ओर से पहल किए जाने से मछुआरों को सुरक्षा मिल रही है। कोस्ट गार्ड ने बीते साल समुद्र में 658 लोगों की जान बचाई थी। कोस्ट गार्ड की ओर से सामाजिक भाईचारे का कार्यक्रम चलाया जाता है। इस वर्ष रैली में शामिल मोटरसाइकिल सवार स्टेशनों पर लोगों से संवाद स्थापित करके समुद्र में की जानेवाली सुरक्षा की जानकारी देंगे। इसके अलावा स्थानीय युवकों को कोस्ट गार्ड में भर्ती होने संबंधी जानकारी भी देंगे। गावों के स्कूलों में जाकर भर्ती प्रक्रिया के संबंध में मार्गदर्शन करने के साथ ही, उन्हें अध्ययन सामाग्री भी वितरित की जाएगी।
Download PDF

Related Post