दानवे लड़ेंगे चुनाव, खोतकर करेंगे प्रचार 

Download PDF
मुंबई। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना पक्षप्रमुख  उद्धव ठाकरे के मध्यस्तता के कारण भाजपा प्रदेशाध्यक्ष रावसाहब दानवे और शिवसेना नेता अर्जुन खोतकर के बीच सुलह हो गई है। जालना संसदीय सीट से रावसाहब दानवे चुनाव लडेंगे। अर्जुन खोतकर को प्रचार की जिम्मेदारी दी गई  है। इस फैसले के बाद दोनों दलों ने राहत की सांस ली है। 
उद्धव की बैठक में नहीं निकला जालना सीट का हल
लोकसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना ने गठबंधन किया है। राज्य की 48 सीटों में से भाजपा के हिस्से 25 और शिवसेना को 23 सीटें मिली हैं। जालना संसदीय सीट को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रावसाहब दानवे और राज्यमंत्री अर्जुन खोतकर के बीच ठन गई थी। इस सीट से रावसाहब दानवे मौजूदा सांसद हैं। इस बार अर्जुन खोतकर ने इस सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने का दावा ठोंका था। शिवसेना कोटे से अर्जुन खोतकर चुनाव लड़ने पर अड़ गए थे। खोतकर समर्थक दबाव बनाने के लिए आंदोलन पर उतर गए थे। कुछ समर्थकों ने तो खोतकर को टिकट न मिलने पर, शिवसेना भवन से कूदकर जान देने की धमकी दे डाली थी। शनिवार को शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने आवास मातोश्री पर बैठक बुलाई थी, लेकिन कोई फैसला नहीं हो सका।
 
 बीते शनिवार को उद्धव ने अपने आवास मातोश्री पर मामले को सुलझाने के लिए बैठक बुलाई थी। इस बैठक में दानवे और खोतकर मौजूद थे। महिला व बाल कल्याण मंत्री पंकजा मुंडे भी बैठक में शामिल हुई थी। लंबी बातचीत चली लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला।  आखिरकार मामला मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर छोड़ दिया गया। रविवार को मुख्यमंत्री फडणवीस और उद्धव की मौजूदगी में औरंगाबाद के एक कार्यक्रम में दोनो नेताओं में सुलह कराई गई। फैसला हुआ कि रावसाहब दानवे जालना संसदीय सीट से फिर चुनाव लड़ेंगे।  खोतकर को समझा बुझाकर प्रचार की जिम्मेदारी दी गई है। दोनों के बीच विवाद खत्म होने के बाद दोनों दलों के नेताओं ने राहत की सांस ली है।
 
इधर एनडीए गठबंधन के सहयोगी दल शिवसंग्राम संगठन के नेता विनायक मेटे ने सम्मानजनक हिस्सेदारी को लेकर गठबंधन में तनाव निर्माण कर दिया है। विनायक मेटे का कहना है कि बीड़ संसदीय सीट को छोड़कर उनकी पार्टी राज्य के किसी भी हिस्से में भाजपा-शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी। मेटे के इस बयान पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष रावसाहब दानवे ने कड़ी आपत्ति जताई है। दानवे ने मेटे को साफ कह दिया है कि यदि गठबंधन होगा तो बीड़ सहित पूरे राज्य में होगा।  अब देखना दिलचस्प होगा कि इस मसले का हल भाजपा-शिवसेना के नेता कैसे निकालते हैं। 
#danve#khotkar#jalna#cm#maharashtra#election2019#devendra Fadnavis
Download PDF

Related Post