राम शिंदे को पालकमंत्री पद से हटाने की मांग

Download PDF

मुंबई, – एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने राम शिंदे को अहमदनगर के पालकमंत्री पद से तुरंत हटाने की मांग की है। नवाब मलिक ने आरोप लगाया कि शिंदे ने जामखेड की हालत बिहार से भी बदतर कर दी है । शिंदे के संरक्षण में वहां बेखौफ गुंडागर्दी का खेल जारी है।

मलिक ने अहमदनगर के जामखेड में 28 अप्रैल को हुई एनसीपी के दो कार्यकर्ताओं की हत्या पर कडी नाराजगी जताई। उन्होंने घटना के लिए बिगडी कानून-व्यवस्था को जिम्मेदार ठहराया। मलिक ने कहा कि जामखेड में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं । अधिकारी काम करने से डर रहे हैं।          

पार्टी प्रदेश मुख्यालय में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए मलिक ने अहमदनगर के जामखेड में 28 अप्रैल को हुई एनसीपी के दो कार्यकर्ताओं की हत्या पर कडी नाराजगी जताई। उन्होंने घटना के लिए बिगडी कानून-व्यवस्था को जिम्मेदार ठहराया। मलिक ने कहा कि जामखेड में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं । अधिकारी काम करने से डर रहे हैं। मलिक ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से शिंदे को तुरंत पालक मंत्री से हटाने की मांग की है। उन्होंने हत्या के आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

इससे पहले एनसीपी के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष दिलीप वलसे पाटिल ने जामखेड जाकर मृतक कार्यकर्ताओं के परिजनों से मुलाकात की थी। उन्होंने मामले की एसआईटी जांच कराने की मांग की है। साथ ही वलसे पाटिल ने भी राम शिंदे को पालकमंत्री पद से हटाने की मांग की है।

मानसून सत्र में विधान भवन का घेराव करेगा संभाजी ब्रिगेड

भीमा -कोरेगांव हिंसा मामले में आरोपी संभाजी भिड़े को अगर पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया तो, मानसून सत्र में संभाजी ब्रिगेड विधान भवन का घेराव करेगा। ऐसी धमकी  संभाजी ब्रिगेड के प्रवक्ता शिवानंद भानुसे ने दी है।

गुरुवार को प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए भानुसे ने कहा कि इस मामले में राज्य सरकार आरोपी संभाजी भिड़े व मिलिंड एकबोटे को हर स्तर पर बचाने का प्रयास कर रही है। भानुसे ने कहा कि राज्य सरकार ने इन दोनों आरोपियों को बचाने के लिए ही सत्यशोधक समिति का गठन किया है और इस समिति में इन्हीं आरोपियों के समर्थकों को रखा गया है । इसलिए इस समिति की रिपोर्ट पूरी तरह तटस्थ हो ही नहीं सकती है।

भानुसे ने कहा कि राज्य सरकार की ओर नियुक्त की गई समिति इस मामले से लोगों का ध्यान हटाने के लिए ही गठित की गई है, इसे आम जनता भी समझ रही है । राज्य सरकार किसी भी हिंसा के मामले के आरोपियों को बचाने के लिए इस हद तक जा सकती है, यह आश्चर्यजनक है, इस तरह की भी जानकारी भानुसे ने पत्रकारों को दी है।

 

Download PDF

Related Post