फिर से आ गया मिट्टी के बर्तनों का मौसम

Download PDF
मुंबई । प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने के बाद महाराष्ट्र सरकार मिट्टी के बर्तनों को बढ़ावा देने में जुट गई है । मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कुंभार समुदाय को अपने पारंपरिक कारोबार को आधुनिक बनाने की सलाह दी है ।
प्लास्टिक पाबंदी के बाद मिट्टी के बर्तनों को बढ़ावा देने में जुटी सरकार 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभार मिट्टी से पारंपरिक वस्तुएं बनाता है। यह पर्यावरण के लिए एक बहुत अच्छी बात है। अब पारंपरिक चीजों के निर्माण के साथ, इस समाज का मिट्टी कला बोर्ड के माध्यम से सशक्तिकरण किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कुंभार समुदाय ने वर्धा की रैली में साल 2014 में मिट्टीकला बोर्ड की मांग की थी। राज्य सरकार ने अपना वादा पूरा कर दिया है। 10 करोड़ रुपए की राशि वर्धा में स्थापित संत शिरोमणि गोरोबाक्का मिट्टीकला बोर्ड के लिए बजट में दी गई है। इस बोर्ड के काम को तुरंत तेज करने के लिए सरकारी स्तर पर कार्य शुरू किया गया है। इसके माध्यम से हम एक आधुनिक प्रणाली बनाने की कोशिश करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया में बढ़ते औद्योगीकरण के कारण प्रदूषण की समस्या में वृद्धि हुई है। इस प्रदूषण को रोकने के लिए, सरकार ने राज्य में प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा दिया है। उन्होंने मिट्टी से शिल्प, कलाकृति और दैनिक उपयोग की वस्तुओं को बनाने के लिए कुंभार समाज की सराहना की।

 

राज्य सरकार ने वर्धा में संत शिरोमणि गोरोबक्का मिट्टी कला बोर्ड के गठन को मंजूरी दे दी है। इसके लिए कुंभार समाज महासंघ ने नागपुर के रेशिमबाग में कविवर्य सुरेश भट ऑडिटोरियम में राज्य सरकार के सम्मान के लिए समारोह आयोजित किया था । इस अवसर पर मुख्यमंत्री बोल रहे थे। मुख्यमंत्री के मुताबिक सरकार इस कला को अगली पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए कुंभार समुदाय के लिए कौशल विकास कार्यक्रम लागू कर रही है। जिससे इस समाज का नाम देश विदेश में फैले । मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभार समुदाय की अन्य मांगों पर चर्चा के लिए जल्द ही मंत्रालय में अधिकारियों की बैठक बुलाई जाएगी।

Download PDF

Related Post