नीरव मोदी की बहन को ईडी ने  जारी किया समन

Download PDF
मुंबई- पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के प्रमुख आरोपी नीरव मोदी के खिलाफ जांच जारी है। ईडी की ओर से नीरव मोदी की बहन पूर्वी मेहता और अन्य परिजनों को नोटिस जारी किया गया है। एफडीआई की आड़ में मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए पैसे के दुरुपयोग किए जाने के आरोप में उनसे भी पूछताछ की जा रही है। पूर्वी मेहता को मुंबई ईडी ऑफिस में पेश होने को कहा गया है।
जांच एजेंसियों का कहना है कि अगर पूर्वी मेहता ईडी के समक्ष पेश नहीं होतीं, तो उन्हें दोबारा समन्स भेजा जाएगा। एजेंसी को यह भी शक है कि नीरव मोदी के कहने पर ही पूर्वी मेहता ने मनी लॉन्ड्रिंग और राउंड ट्रिपिंग में उनकी मदद की है। ईडी ने इस मामले की जांच के दौरान 6000 करोड़ रुपए के बारे में सूचना एकत्रित कर लिया है।
पूर्वी मेहता को पिछले सप्ताह भी नोटिस जारी किया गया था, जिसमें 15 दिन के भीतर ईडी के समक्ष हाजिर होने का निर्देश था। फिलहाल वह अपने परिवार के साथ हॉंगकॉग में हैं। जांच एजेंसियों का कहना है कि अगर पूर्वी मेहता ईडी के समक्ष पेश नहीं होतीं, तो उन्हें दोबारा समन्स भेजा जाएगा। एजेंसी को यह भी शक है कि नीरव मोदी के कहने पर ही पूर्वी मेहता ने मनी लॉन्ड्रिंग और राउंड ट्रिपिंग में उनकी मदद की है। ईडी ने इस मामले की जांच के दौरान 6000 करोड़ रुपए के बारे में सूचना एकत्रित कर लिया है। जांच एजेंसिय़ों के अनुसार, एफडीआई के जरिए बड़े पैमाने पर रकम को वापस भारत में निवेश किया जा रहा है। करीब 271 करोड़ रुपए का निवेश पूर्वी मेहता की कंपनी के जरिए ही किया जा चुका है।
ईडी के एक अधिकारी के अनुसार, 16 फरवरी 2018 को आयकर विभाग ने इस मामले में पूरी रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें कहा गया था कि फिलहाल 4900 करोड़ रुपए के बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस रिपोर्ट में केवल दो ट्रांजैक्शन की जानकारी साझा की गई थी। नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार इंटरनेशनल लिमिटेड ने मार्च 2013 से अप्रैल 2014 के दौरान 284 करोड़ रुपए हासिल किए थे। इस रकम को जेडे ब्रिज होल्डिंग लिमिटेड कंपनी से भेजा गया था। आयकर विभाग ने जांच में पाया कि इस विदेशी फंड का कोई सबूत कंपनी ने पेश नहीं किया था। इसी तरह, सिंगापुर की कंपनी इस्लिंगटन इंटरनेशनल होल्डिंग से भी मोदी की कंपनी ने करीब 271 करोड़ रुपए प्राप्त किए थे। इस कंपनी से पूर्वी मेहता का संबंध है।
Download PDF

Related Post