26/11 आतंकी हमले के शहीदों को भूली सरकार 

Download PDF
मुंबई । राज्य सरकार 26/11 आतंकवादी हमले में शहीद हुए पुलिस जवानों को श्रद्धांजलि देना भूल गई, परंतु विपक्ष ने शहीदों को याद करते हुए सदन में श्रद्धांजलि प्रस्ताव पेश किया। विपक्ष ने इस मामले को लेकर महायुति सरकार की कड़ी आलोचना की है। 

26 नवंबर को हुए आतंकवादी हमले के दस साल

मुंबई में 26 नवंबर को हुए आतंकवादी हमले को दस साल पूरे हुए हैं। राज्य सरकार का तर्क है कि इस आतंकवादी हमले की दसवीं बरसी पर मुंबई सहित राज्य में संवेदनशील माहौल है। लिहाजा पूरे राज्य में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। आरक्षण की मांग को लेकर मराठा समुदाय ने विधान भवन पर सोमवार को भव्य मोर्चा निकालने का एेलान किया था। विपक्ष का आरोप है कि मोर्चे को असफल बनाने के लिए पुलिस ने धरपकड़ शुरू की गई थी। मराठा आंदोलनकारियों के मोर्चा रोक लिया गया। हालांकि विधान सभा में राज्य सरकार आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देना भूल गई। 
एनसीपी विधायक दल नेता अजीत पवार ने आरोप लगाया कि सरकार की असंवेदनशीलता आखिकार एक उदाहरण के तौर पर सामने आई है। मुंबई पर आंतकवादी हमले हुए दस साल पूरा हो गया। शीत शत्र शुरू है। ऐसे समय में सरकार की तरफ से आतंकवादियों के हमले में शहीद हुए जवानों को सदन में श्रद्धांजलि देना चाहिए था। लेकिन सरकार की ओर से ऐसा कुछ नहीं किया गया। इस बात को लेकर अजीत पवार ने नाराजगी व्यक्त की। विपक्ष की आपत्ति के बाद सदन में शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई।
Download PDF

Related Post