हामिद अंसारी की होगी पाकिस्तान से रिहाई

Download PDF

मुंबई । पाकिस्तान की यात्रा पर गए भारतीय नागरिक हामिद निहाल अंसारी की आज यानी मंगलवार को रिहाई हो सकती है। मुंबई निवासी हामिद बिना किसी दस्तावेज के अपनी महिला मित्र से मिलने पाकिस्तान की यात्रा पर गए थे। जासूसी के आरोप में वे वर्ष 2012 से पाक की जेल में बंद है। उन्हें वापस लाने के प्रयास जारी थे।

जासूसी के आरोप में वे वर्ष 2012 से पाक की जेल में बंद

हेगडे के मुताबिक मंगलवार को हामिद को वाघा बॉर्डर से भारत भेजा जा सकता है। बीते दिनों पाकिस्तान की पेशावर हाईकोर्ट ने पाक सरकार से हामिद को एक महीने के अंदर रिहा करने का आदेश दिया था। मुंबई के वर्सोवा इलाके के रहने वाले हामिद को नवंबर 2012 में पाकिस्तान में हिरासत में लिया गया था। हामिद को  6 साल पहले पाकिस्तान में वैध दस्तावेजों के बिना प्रवेश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। हेगड़े ने बताया कि हामिद को वापस लाने में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज समेत कई लोगों की अहम भूमिका रही है।

भावेश परमार के पाकिस्तान से रिहा होने के बाद हामिद की मां ने अपने बेटे को वापस लाने के लिए मुझसे संपर्क किया था। हमलोगों ने इस मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को जानकारी दी थी। हमलोगों ने भारत के कई क्रिकेटरों से भी हामिद को वापस लाने के लिए सहयोग की अपील की थी। आखिरकार सामूहिक प्रयास से हामिद को पाकिस्तान की जेल से रिहा किया जा रहा है।

यह देश के लिए खुशी की बात है। याद दिला दें कि 30 नवंबर को एक भारतीय पत्रकार ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान से हामिद की रिहाई को लेकर सवाल पूछा था। इस पर इमरान ने कहा था कि वे पहली बार इस बारे में सुन रहे हैं। उन्होंने भरोसा दिया था कि इस मामले की जानकारी लेने के बाद उनसे जो कुछ बन पड़ेगा वे करेंगे।

वर्ष 2012 में हामिद अपनी महिला मित्र से मिलने पाकिस्तान गए थे। महिला से उनकी दोस्ती सोशल मीडिया के जरिए हुई थी। अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान में घुसने के दौरान हामिद को खुफिया एजेंसियों ने स्थानीय पुलिस की मदद से गिरफ्तार कर लिया। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों का दावा था कि हामिद ने हमजा के नाम पर नकली पहचान पत्र के जरिए घुसपैठ करने की कोशिश की थी। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने उन्हें जासूसी व राज्य विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोपी बनाया था। 15 दिसंबर, 2015 को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने हामिद को 3 साल की जेल की सजा सुनाई थी। पेशावर हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के दौरान हामिद के ऊपर लगे आरोपों को खारिज कर दिया।

 

Download PDF

Related Post