पांच साल में करोड़पति कैसे बने राहुल गांधी !

Download PDF
मुंबई। भाजपा ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की संपत्ति पर सवाल उठाते हुए उनसे खुलासे की मांग की है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता माधव भंडारी ने जवाब मांगा है कि राहुल की  55 लाख रुपए की संपत्ति केवल पांच वर्ष में 9 करोड़ रुपए कैसे हो गई, इसका खुलासा राहुल अथवा कांग्रेस पार्टी करे।
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता माधव भंडारी ने मांगा जवाब
भाजपा प्रदेश मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए  भंडारी ने कहा कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चोर कहा था, अब उनके बेनामी संपत्तियों का हिसाब देने का समय आ गया है। राहुल के पास सांसद के अलावा कोई आय का स्त्रोत नहीं है, उन्हें बताना चाहिए कि पांच साल में 55 लाख रुपए से उनकी संपत्ति 9 करोड़ रुपए कैसे हो गई। भंडारी के मुताबिक राहुल ने टू जी स्पेक्ट्रम घोटाले की यूनिटेक लिमिटेड कंपनी की गुड़गांव स्थित दो संपत्तियां खरीदी हैं। कैग की रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने  यूपीए सरकार को पक्ष रखने कहा था। उससे एक दिन पहले राहुल ने यह संपत्ति खरीदी थी। इस पर राहुल गांधी को स्पष्टीकरण देना चाहिए।
भंडारी के अनुसार  कांग्रेस ने खुलासा किया है कि दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी के नाम पर उनका फार्म हाउस पिता की संपत्ति है। लेकिन राहुल गांधी के पास इस फार्म हाउस की खरीद से जुड़े दस्तावेज हैं, फिर यह संपत्ति पुस्तैनी कैसे हो गई। लंदन की बैकॉप कंपनी उस देश में बर्खास्त कर दी गई थी। बावजूद इसके कंपनी की ब्रांच का संचालन भारत में वर्ष 2010 तक हो रहा था। विशेष रूप से, वर्ष 2009 में चुनावी हलफनामा भरने के एक दिन पहले इस कंपनी का निदेशक पद प्रियंका गांधी को दे दिया गया। इसके पीछे क्या रहस्य है।
भंडारी ने कहा कि राहुल गांधी ने गरीबों के लिए न्युनतम वेतन देने की घोषणा की है। उनकी दादी इंदिरा गांधी ने वर्ष 1971 में गरीबी हटाओ का नारा दिया था। परंतु चुनाव जीतने के बाद गरीबी घटने के बजाए बढ़ी। राहुल गांधी पर लोग विश्वास नहीं करेंगे। भंडारी ने कहा कि मोदी सरकार में कल्याणकारी योजनाओं के कारण लोग गरीबी से उपर उठे हैं। इसका जिन्हे फायदा मिला है वे मोदी और भाजपा का साथ नहीं छोडेंगे। इस अवसर पर प्रवक्ता केशव उपाध्ये, अतुल शाह और कांताताई नलावडे मौजूद थी।
Download PDF

Related Post