इंडिगो के निदेशक के इस्तीफे और शेयर में गिरावट की जांच करेगा सेबी

Download PDF
मुंबई- भारतीय बाजार नियामक सेबी ने विमानन कंपनी इंटरग्लोब एवीएशन लिमिटेड के शेयरों में पिछले सात महीने से जारी गिरावट और उछाल के कारणों की जांच करने का निर्ण लिया है। देश की सबसे बड़ी एयरलाइन सेवा प्रदाता कंपनी ने हाल ही में अपने अध्यक्ष के इस्तीफे की घोषणा की है। बता दें कि पिछले सात महीने से विमानन कंपनी के शेयरों में अचानक से उछाल-चढ़ाव देखा जा रहा है। पिछले एक महीने के भीतर इसके शेयरों में छह प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है। 
 इंटरग्लोब एविएशन (इंडिगो) के शेयर बुधवार को 1,342.85 रुपए तक लुढ़क गए, जो पिछले एक महीने में सबसे ज्यादा गिरावट है। 3.89 फीसदी अर्थात 54.40 रुपए की गिरावट देखी गई है। पिछले एक महीने के दौरान कंपनी के शेयर में 200 रुपए से ज्यादा की गिरावट देखी गई है। 26 अप्रैल को इसके शेयर के दाम 1505 रुपए से ज्यादा थे। घोष के इस्तीफे के बाद से इसमें लगातार गिरावट देखी जा रही है।  
भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड सेबी की ओऱ से दी गई जानकारी के अनुसार, 27 अप्रैल से ही इसके शेयरों में 6.1 प्रतिशत की भारी गिरावट देखी जा रही है। इसके अलावा कंपनी के निदेशक  आदित्य घोष के इस्तीफा दिए जाने के खुलासे में देरी के पीछे के कारणों की जांच भी की जा रही है। कंपनी ने मामले की संवेदनशीलता का हवाला देते हुए कोई भी जानकारी बताने से इनकार कर दिया था। घोष ने 26 अप्रैल को ही इस्तीफा दे दिया था। 
हालांकि विमानन कंपनी इंडिगो के प्रवक्ता के अनुसार, कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग होनेवाली कंपनियों पर लागू होनेवाले सभी शर्तों व नियमों का पालन किया है। और कंपनी के हित में जरूरी फैसले किए हैं। फिलहाल सेबी की ओर से विमानन कंपनी के शेयरों की इस गिरावट पर निगरानी की जा रही है औऱ डाटा समीक्षा की जा रही है। नियामक को मार्केट सेंसिटिव सूचनाओं के लीक होने और इनसाइडर ट्रेडिंग नियमों के उल्लंघन का संदेह भी है। बताया जा रहा है कि सेबी अब उन सभी लोगों से ब्योरा मांगेगी जो घोष के फैसलों से अवगत थे।  
बता दें कि घोष ने पदभार ग्रहण करने के बाद से इंडिगो के बिजनेस को उभार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। हालांकि इंडिगो के मालिक राहुल भाटिया और राकेश गंगवाल मीडिया की सुर्खियों से दूर रहते आए थे। हालांकि घोष के इस्तीफे के बाद भाटिया एयरलाइन के अंतरिम मुख्य कार्यकारी अधिकारी होंगे। हालांकि कंपनी की ओर से बताया गया कि नए अध्यक्ष और सीईओ के रूप में ग्रेगरी टेलर के नाम पर विचार किया जा रहा है। टेलर इसके पहले वर्ष 2016-2017 में विमानन कंपनी इंडिगो में बतौर राजस्व प्रबंधन और नेटवर्क योजना के कार्यकारी उपाध्यक्ष के रूप में काम कर चुके हैं। बाद में उन्हें कंपनी का वरिष्ठ सलाहकार बना दिया गया था। हाल ही में कंपनी ने अपनी त्रैमासिक नतीजे घोषित किए। हालांकि कंपनी को अनुमानों के अुसार लाभ नहीं हुआ है। शुद्ध आय में भी अप्रत्याशित रूप से पिछले एक साल की तुलना में 1.18 बिलियन रूपए से ज्यादा की कमी आई है।
Download PDF

Related Post