#Jashn-e-Wiladat: Khwaja Gareeb Nawaz’s Birthday Celebration

Download PDF

धूमधाम से मनाया ख्वाजा ग़रीब नवाज़ का जन्मदिन 

अजमेर, 25.02.2018. ख्वाजा ग़रीब नवाज़ का जन्म दिन “जश्न-ए-विलादत अजमेर में बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया गया. परोगरम्मे के आयोजक, जनाब सैयद हिमायत हुसैन साहब ने बताया की जश्न-ए-विलादत उनके वालिद महरूम जनाब तक़द्दुस हुसैन साहेब ने 70 साल पहले शुरू किया था. इन सत्तर सालों में अहाता-ए-नूर पर सिर्फ़ दरगाह के गद्दीनशी क़व्वाल की कलाम पेश करते आए हैं. ये 70 साल में पहली बार हुआ है कि किसी आमंत्रित गायक ने जश्न-ए-विलादत पर अहाता-ए-नूर में क़व्वाली पेश की हो.

राजा मुश्ताक़ ने अमीर खुसरो साहेब का कलाम “मन कुंतो अली मौला” पेश किया. उनका गायन उपस्थित हाज़रीन और ख्वाजा साहेब के चाहने वालों की अपार भीड़ ने बहुत सराहा.

क़व्वाली के बाद 6डी न्यूज़ से बात करते हुए राजा मुश्ताक़ ख़ुशी से फूले नहीं समा रहे थे. उन्होंने कहा कि उनके पास शब्द नहीं हैं ये बयान करने के लिए कि उन्हें कैसा महसूस हो रहा है. राजा ने कहा कि मैं उस छोटे से बच्चे की तरह महसूस कर रहा हूँ जो क्लास में फ़र्स्ट आ गया है और चीख़ चीख़ कर उछल उछाल कर पूरा मोहल्ला सिर पर उठा लेना चाहता हो. “मेरी वर्षों से तम्मन्ना थी की मैं ख्वाजा साहब के दरबार में अपना कलाम पेश कर सकूँ. मुझे नहीं मालूम था कि मेरी ये ख़्वाहिश ख्वाजा साहेब के जन्म दिन के मुबारक मौक़े पर पूरी होगी और मैं आहता-ए-नूर में बैठ कर क़व्वाली गाऊँगा. राजा ने भिवंडी से आए जनाब सखावत अली साहब और इवेंट के आयोजक साहबज़ादा सैयद हिमायत हुसैन साहेब को बहुत बहुत शुक्रिया अदा किया ये कहते हुए कि उन्होंने इस नाचीज़ को इस क़ाबिल समझा और ये मौक़ा दिया. राजा ने अजमेर शरीफ़ के गद्दीनशी क़व्वाल अमजद मियाँ और उनके साथी कलाकारों का भी साथ देने के लिए शुक्रिया अदा किया.

जनाब हिमायत हुसैन साहब ने राजा की क़व्वाली की तारीफ़ करते हुए कहा की राजा ने जश्न-ए-विलादत की रौनक़ बढ़ा दी. हिमायत हुसैन साहेब ने बताया की जश्न-ए-विलादत उनके वालिद महरूम जनाब तक़द्दुस हुसैन साहेब ने 70 साल पहले शूरू किया था. इन सत्तर सालों में आहता-ए-नूर में सिर्फ़ दरगाह के गद्दीनशी क़व्वाल की कलाम पेश करते आए हैं. ये 70 साल में पहली बार हुआ है की किसी आमंत्रित गायक ने जश्न-ए-विलादत पर आहता-ए-नूर में क़व्वाली पेश की हो. उन्होंने कहा कि ये सब राजा पर ख्वाजा साहेब का करम है, हम सब तो माध्यम मात्रा हैं.

 

एक डिटेल्ड रिपोर्ट.

Download PDF

Related Post