केजरीवाल बनाम शाह – आधी छोड़ पूरी को धावे, आधी मिले ना पूरी पावे

Download PDF

‘आप’ ने गोवा और पंजाब पर निशाना साधा है, जो भाजपा शासित प्रदेश हैं। वहीं भाजपा का फ़ोकस यूपी बना हुआ है। गोवा और पंजाब को वो शायद “घर की मुरग़ी दाल बराबर” मान रहे हैं और यू॰पी॰ में सरकार बनाने के लिए सारी ताक़त लगा दी है।

अरविंद केजरीवाल ने शनिवार, 17 दिसम्बर को दिल्ली के अपने दफ्तर से पंजाब और गोवा में चुनावी बिगुल बजाया।

लोगों के सामने केजरीवाल ने अपनी “ऑनलाइन” झोली फैलाई।

दिल्ली की जनता की तरह समय के साथ-साथ आर्थिक मदद की गुहार लगाई।

अडानी और अम्बानी के नाम से डराते हुए पार्टी के लिए “सफ़ेद धन” माँगा।

‘आप’ ने पंजाब के साथ गोवा में भी विस्तार किया है।

वही भाजपा ने भी आज उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर में परिवर्तन रैली से चुनावी बिगुल उत्तर प्रदेश में बजाना शुरू किया है।

केजरी की अपील से अमित शाह हिले दिखे और राजनीतिक पार्टियों के धन की जाँच की धमकी भी दे डाली।

अमित शाह ने न केवल केजरीवाल की अपील पर निशाना साधा बल्कि उत्तरप्रदेश को गुंडा मुक्त शासन देने का वादा भी किया।

अमित शाह ने अतीक अहमद द्वारा हाल ही में एक कॉलेज परिसर में गुंडागर्दी करने को लेकर भी बड़ा ही तीखा हमला बोला।

इस रैली से साफ़ है की भाजपा का फ़ोकस केवल उत्तरप्रदेश बना हुआ है। पंजाब-गोवा पर अभी तक कोई चुनावी पहल नहीं दिख रही है।

कही ऐसा ना हो जाए कि घर की मुरग़ी (पंजाब-गोवा) दाल बराबर रह जाए और और ‘केजरी’ एक बार फिर “केसरी” को चूना लगा दें, वह भी दिल्ली कि तरह ही।

फिर तो यही कहावत सच हो जाएगी: “आधी छोड़ पूरी को धावे, आधी मिले ना पूरी पावे।”

Download PDF

Related Post