कुंभ मेले में चप्पे-चप्पे पर सी.सी. टीवी

Download PDF

मुंबई- वर्ष 2013 में इलाहाबाद में कुंभ मेले के दौरान हुई भगदड़ से सबक लेते हुए फरवरी महीने में आयोजित होने जा रहे प्रयागराज कुंभ मेले के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने व्यापक प्रबंध किए हैं। पूरे  कुंभ मेला परिसर को इंटीग्रेटेड कंट्रोल एवं कमांड सेंटर सीसीटीवी कैमरों को निगरानी में रखा गया है। साथ ही स्नान के दौरान संत अखाड़ों और तीर्थ यात्रियों के बीच कोई मतभेद न हों इसलिए  सामंजस्य बनाए रखने के लिए सभी संत आखाड़ो को बातचीत के जरिए विश्रवास में लिया गया है। यह जानकारी गुरुवार को यूपी के नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने दी। 

योगी सरकार का महाराष्ट्र के लोगों को निमंत्रण 

मुंबई के ट्राइटेंड होटल में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान यूपी के नगर विकास विभाग के सचिव संजय कुमार और  सीआईआई महाराष्ट्र राज्य समिति के पूर्व निदेशक सुनील खन्ना भी मौजूद थे। सुरेश खन्ना ने महाराष्ट्र की जनता को कुंभ मेले में आने का निमंत्रण दिया। खन्ना के मुताबिक मेले में भगदड़ जैसी अप्रिय घटना घटे इसके लिए 116 करोड़ रुपए खर्च कर विशेष व्यवस्था की गई। इस बार 1400 से अधिक सीसीटीवी कैमरे के जरिए प्रयागराज नगर के साथ-साथ कुंभ नगर के यातायात और मेले में आनेवाली भीड़ को नियंत्रित तथा सुरक्षित रखा जा सकेगा। प्रयागराज 247 करोड़ की लागत से दो कंट्रोल एवं कमांड सेंटर होंगे। स्वच्छता पर विशेष ध्यान देते हुए 1 लाख 22 हजार शौचालय की व्यवस्था की गई है और 11 हजार सफाईकर्मी तैनात रहेंगे। स्नान स्थल पर दूषित पानी न पहुंचे इसकी पुख्ता व्यवस्था की गई है। सुरक्षा और कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए 40 पुलिस थानों 3 महिला पुलिस स्टेशन, 40 अग्निशमन दल, 40 वॉच टॉावर, 20 हजार पुलिसकर्मी 20 पीएसी कंपनी, सेंट्रल की पैरा मीलिट्री फोर्स और कमांडो तैनात रहेंगे। मेले में 24 घंटे बिजली उपलब्ध रहेगी। साथ ही तीर्थ यात्रियों के आने-जाने के लिए हवाई्अड्डे और रेल व सड़क मार्ग पर पर्याप्त व्यवस्था की गई है। 

2900 करोड़ रुपए का बजट 

खन्ना ने बताया कि भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) मेले के प्रचार में सहयोग कर रही है। पीएम मोदी के प्रयासों से यूनेस्को ने कुंभ को मानवता के अमूर्त सांस्कृतिक विरासतों की सूची में शामिल किया है, जिसका हम सबी भारतीयों को गर्व है। उन्होंने बताया कि 3 हजार 200 हेक्टेयर क्षेत्र में आयोजित होनेवाले प्रयागराज कुंभ मेले के लिए 2900 करोड़ रुपए का बजट में प्रावधान किया गया है। केंद्र सरकार के विभागों से भी आर्थिक मदद मिल रही है।12 करोड़ तीर्थ यात्रियों के आने का दावा 14 जनवरी से 4 मार्च तक लगनेवाले कुंभ मेले के छह स्नानों में 12 करोड़ से अधिक तीर्थ यात्रियों के आने का अनुमान है। मौनी अमावस्या 4 फरवरी को 3 करोड़ तीर्थ यात्रियों को पहुंचने की उम्मीद है। इसीतरह तकरीबन 192 देशों के 10 लाख पर्यटकों के आने का अनुमान है। मेले में 20 हजार लोगों के रहने की व्यवस्था होगी। 10 हजार से अधिक पंडाल बनाए गए हैं। 


Download PDF

Related Post