रोजगार निर्माण में महाराष्ट्र ने मारी बाजी, छह महीने में 8 लाख से अधिक रोजगार

Download PDF

मुंबई- देश के संगठित क्षेत्र में सितंबर 2017 से मार्च 2018 इन 7 माह की अवधि में कुल 39.36 लाख रोजगार का निर्माण हुआ है और क्षेत्र के रोजगार निर्माण में महाराष्ट्र प्रथम स्थान पर है। राज्य में 8,17,302 रोजगार निर्माण हुआ है।

अग्रणी 6 राज्यों में महाराष्ट्र प्रथम स्थान पर है। दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे राज्य में हुई रोजगार सृजन की कुल संख्या के बराबर महाराष्ट्र की संख्या है। यह संख्या सिर्फ संगठित क्षेत्र की है और जिन आस्थापनों ने ईपीएफओ में खाता खोला है, उन्हीं की संख्या इसमें शामिल है।

राज्य सरकार की ओर से दी गई जानकारी मुताबिक कर्मचारी भविष्य निर्वाह निधि संगठन (ईपीएफओ) ने रोजगार सृजन की संख्या जारी की है। इसमें अग्रणी 6 राज्यों में महाराष्ट्र प्रथम स्थान पर है। दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे राज्य में हुई रोजगार सृजन की कुल संख्या के बराबर महाराष्ट्र की संख्या है। यह संख्या सिर्फ संगठित क्षेत्र की है और जिन आस्थापनों ने ईपीएफओ में खाता खोला है, उन्हीं की संख्या इसमें शामिल है। इसके अलावा असंगठित और अन्य क्षेत्र में भी रोजगार निर्माण हुआ है। वह संख्या इससे अधिक है। सिर्फ 7 महीने में महाराष्ट्र ने 8 लाख से अधिक रोजगार संगठित क्षेत्र में निर्माण किए हैं। अर्थात हर महीने में एक लाख से अधिक रोजगार राज्य में निर्माण हो रहे हैं।

कर्मचारी भविष्य निर्वाहनिधी संगठन की ओर से जारी संख्या के अनुसार अकेले महाराष्ट्र में 8,17,302 रोजगार निर्मित हुए हैं। दूसरे स्थान पर रहे तमिलनाडु में 4,65,319 और तीसरे स्थान पर रहे गुजरात में 3,92,954 रोजगार निर्माण हुआ है। हरियाणा में 3,25,379 रोजगार निर्माण हुए है और पाचवें स्थान पर रहे कर्नाटक में 2,93,779 रोजगार निर्मित हुए हैं। वहीं देश की आर्थिक राजधानी दिल्ली छठें स्थान पर है और वहां 2,76,877 रोजगार का निर्माण हुआ है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के अंतर्गत महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में विविध उद्योग स्नेही नीति एवं कौशल विकास कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत रोजगार सृजन के लिए विभिन्न योजनाएं सफलतापूर्वक क्रियान्वित किया है। मेक इन इंडिया, मेक इन महाराष्ट्र आदि उपक्रमों के माध्यम से किए गए करार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इज ऑफ डुईंग बिजनेस, डिजिटल प्रशासन से उद्योग-व्यवसाय को सुलभ सेवाएं उपलब्ध हुई है।

Download PDF

Related Post