हथियारों का कुटीर उद्योग 9 – सिकलीगर बच्चों की मजबूरी है कट्टे बनाना

Download PDF

यह पूर्ण सत्य है कि बिना शिक्षा के एक समाज और देश कभी पनप नहीं सकता।

इस देश की सबसे बड़ी विसंगति तो यहीं झलकती है कि आजादी के छह दशक बीत जाने के बाद भी समाज के एक बड़ा तबका शिक्षा से वंचित है।

जिन इलाकों में जाने के लिए सड़के नहीं हैं, साधन नहीं हैं, वहां तक कैसे निजी कंपनियों के सेल फोन टॉवर पहुंच जाते हैं, कैसे उनके उपभोक्ता सामान बिकने के लिए पहुंच जाते है, तो फिर शिक्षा और अन्य सुविधाएं उन तक क्यों नहीं पहुंच पाती हैं?

इस सवाल का जवाब खोजने के लिए देश के ख्यातनाम खोजी पत्रकार विवेक अग्रवाल ने सिकलीगरों के उन बीहड़ इलाकों के अंदर तक जाकर पड़ताल की।

विवेक अग्रवाल की खोजी रपट।

Download PDF

Related Post