नाणार परियोजना: स्वाभिमान सेना और संघर्ष समिति में टकराव 

Download PDF
मुंबई –  कोंकण में प्रस्तावित नाणार रिफाइनरी परियोजना को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। सियासी घमासान के बीच अब परियोजना के विरोधी और समर्थक आमने-सामने आ गए हैं।
पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी के कार्यकर्ताओं ने धावा बोल दिया। धक्का-मुक्का के साथ विवाद इतना बढ़ा कि मारपीट की नौबत आ गई। हालांकि सूचना मिलते ही नजदीकी आजाद मैदान पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया।
परियोजना का विरोध कर रही नाणार संघर्ष समिति ने बुधवार को मराठी पत्रकार संघ में प्रेस वार्ता का आयोजन किया था। इसीबीच पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी के कार्यकर्ताओं ने धावा बोल दिया। धक्का-मुक्का के साथ विवाद इतना बढ़ा कि मारपीट की नौबत आ गई। हालांकि सूचना मिलते ही नजदीकी आजाद मैदान पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। पुलिस ने किसी तरह बीच-बचाव कर दोनों पक्षों को काबू में किया। पुलिस ने दोनों तरफ के कुछ लोगों को हिरासत में लिया है।
राणे के विधायक पुत्र  नितेश राणे  ने परियोजना का विरोध कर रही समिति के पदाधिकारियों को चेताया है कि अभी प्रेस वार्ता रोकी गई है, यदि नहीं माने तो परिणाम बुरा होगा। नितेश ने कहा कि परियोजना का विरोध करनेवाले कोकण का विकास नहीं चाहते। इधर परियोजना बचाओ समिति के अध्यक्ष अजय सिंह सेनगर का कहना है परियोजना के कार्यान्वित होने पर एक लाख स्थानीय लोगों को  रोजगार मिलेगा। साथ क्षेत्र का भी विकास होगा। बेरोजगारी कम होने के साथ ही लोग आर्थिक रूप से मजबूत बनेंगे। शिवसेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के विरोध के कारण परियोजना को गुजरात में हस्तांतरित करने का षडयंत्र रचा जा रहा है। दूसरी ओर परियोजना का विरोध कर रही नाणार संघर्ष समिति के अध्यक्ष अशोक वालम का आरोप है कि सरकार और कंपनी के दलाल हमारे आंदोलन को  रोकने के लिए मामले को राजनीतिक रंग देना चाह रहे हैं।
Download PDF

Related Post