‘राष्ट्रीय गोकुल मिशन’ पुरस्कार की घोषणा,  महाराष्ट्र को मिले सात पुरस्कार  

Download PDF
मुंबई- केंद्र पुरस्कृत ‘राष्ट्रीय गोकुल मिशन’ अंतर्गत पशुसंवर्धन क्षेत्र में किए गए उल्लेखनीय कार्य के लिए दिए जानेवाले सर्वोत्तम राज्य पुरस्कार में पश्चिम विभाग का सम्मान महाराष्ट्र राज्य ने प्राप्त किया है। इस पुरस्कार के साथ कुल सात पुरस्कार महाराष्ट्र को प्राप्त हुए हैं।
पशुसवंर्धन, दुग्धविकास एवं मत्स्य विकास महादेव जानकर के मुताबिक पशुधन सेवाओं का विस्तार हर पशु पालक तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार ने बीते तीन-चार साल में बड़ी मेहनत की। देसी गाय और भैंस की प्रजातियों का महत्व विकसित देशों ने भी समझा है। अपने देशी प्रजातियों का जतन एवं संवर्धन के लिए विभाग सतत कार्य कर रहा है। पुरस्कारों के माध्यम से इस कार्य का सम्मान मिला है। 
केंद्र सरकार की ओर से देश के चार विभागों के अंतर्गत यह पुरस्कार घोषित किए गए हैं । पश्चिम विभाग में महाराष्ट्र समेत गुजरात, मध्य प्रदेश, गोवा, छत्तीसगढ़ इन राज्यों को तथा दादरा नगर हवेली और  दीव- दमण इन केंद्र शासित प्रदेशों का समावेश हैं। इसमें राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार, राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उत्कृष्ट कार्यान्वयन, उत्कृष्ट पशुवैद्यकीय, उत्कृष्ट कृत्रिम रेतन सेवा पुरस्कार के साथ सर्वोत्कृष्ट राज्य पुरस्कार आदि पुरस्कार महाराष्ट्र को प्राप्त हुए हैं। पश्चिम विभाग में सर्वोत्कृष्ट राज्य पुरस्कार के लिए पशुधन की उत्पादकता, पशु वैद्यकीय सेवा का दर्जा, बीमारी नियंत्रण, पशु प्रजनन कार्यक्रम पर उत्कृष्ट अमल, कृत्रिम रेतन का काम, बीमारी प्रादुर्भाव के सन्दर्भ में जानकारी केंद्र सरकार के पोर्टल पर भरने के लिए प्रतिसाद, केंद्र पुरस्कृत योजनाओं पर अमल, पशु संवर्धन योजनाओं की जानकारी पशुपालकों तक पहुंचाने के लिए विस्तार कार्यक्रम का कार्यान्वयन आदि मुद्दों का विचार किया गया। देसी गोवंश तथा भैसों की प्रजातियों का जतन और संवर्धन पर ‘राष्ट्रीय गोकुल मिशन’ में विशेष जोर दिया गया था।
 पशुसवंर्धन, दुग्धविकास एवं मत्स्य विकास महादेव जानकर के मुताबिक पशुधन सेवाओं का विस्तार हर पशु पालक तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार ने बीते तीन-चार साल में बड़ी मेहनत की। देसी गाय और भैंस की प्रजातियों का महत्व विकसित देशों ने भी समझा है। अपने देशी प्रजातियों का जतन एवं संवर्धन के लिए विभाग सतत कार्य कर रहा है। पुरस्कारों के माध्यम से इस कार्य का सम्मान मिला है।
सर्वोत्तम राज्य पुरस्कार के अलावा राज्य को और भी पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। जिनमें राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार – प्रथम पुरस्कार- अनिरुद्ध भगीरथ पाटिल, जिला नाशिक, उत्कृष्ट पशुवैद्यक पुरस्कार- प्रथम पुरस्कार- डॉ. अनिल तुलसीराम परिहार, सहायक पशुसंवर्धन आयुक्त, तहसील लघु पशुवैद्यकीय अस्पताल, कराड (जि. सातारा), द्वितीय पुरस्कार- डॉ. दिनकर भाऊराव बोर्डे, सहायक पशुसंवर्धन आयुक्त, तहसील लघु पशुवैद्यकीय अस्ताल, पंढरपुर जिला सोलापुर, उत्कृष्ट कृत्रिम रेतन तंत्रज्ञ पुरस्कार- द्वितीय पुरस्कार- बालासाहब तुकाराम कोल्हे, कृत्रिम रेतन टेक्निसियन, बायफ, सोनेवाडी, तहसील कोपरगांव,जिला अहमदनगर, द्वितीय पुरस्कार- डॉ. अनिल विठ्ठलराव इंगोले, पशुधन विकास अधिकारी, सासवड जिला पुणे को प्राप्त हुआ है।
इसीतरह राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उत्कृष्ट अमल- प्रथम पुरस्कार सर्वोत्कृष्ट राज्य पुरस्कार’ में राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार : प्रथम पुरस्कार- अनिरुद्ध भगिरथ पाटिल, जिला नाशिक, उत्कृष्ट पशुवैद्यक पुरस्कार में प्रथम पुरस्कार- डॉ. अनिल तुलसीराम परिहार, सहायक पशुसंवर्धन आयुक्त, तहसील लघु पशुवैद्यकीय अस्पताल, कराड जिला सातारा,   द्वितीय पुरस्कार- डॉ. दिनकर भाऊराव बोर्डे, सहायक पशुसंवर्धन आयुक्त, तहसील लघु पशुवैद्यकीय अस्पताल, पंढरपूर जिला सोलापुर, उत्कृष्ट कृत्रिम रेतन तकनीक पुरस्कार : द्वितीय पुरस्कार- बालासाहब तुकाराम कोल्हे, कृत्रिम रेतन टेक्नीशियन, बायफ, सोनेवाडी, तहसील कोपरगांव जिला अहमदनगर, द्वितीय पुरस्कार- डॉ. अनिल विठ्ठलराव इंगोले, पशुधन विकास अधिकारी, सासवड जिला पुणे को प्राप्त हुआ है।
Download PDF

Related Post