अब साल में दो बार होंगी ‘नीट’ और ‘जेईई’ की परीक्षायें

Download PDF

नयी दिल्ली, केंद्र सरकार ने इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा ‘ जेईई ’ और मेडिकल प्रवेश परीक्षा ‘ नीट ’में छात्रों की प्रतिभागिता बढ़ाने के लिए इसे अब साल में दो बार किए जाने की घोषणा की है. छात्रा अब ये परीक्षायें ऑनलाइन दे सकेंगे।। नवगठित नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) इन परीक्षाओं को संचालित करेगी। अब तक सीबीएसई ये परीक्षाएं आयोजित करती थी।

एनटीए सबसे पहले इस साल दिसंबर में राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) आयोजित करेगी। उन्होंने कहा कि जेईई (मेन्स) की परीक्षा साल में दो बार – जनवरी और अप्रैल – में होगी। नीट (यूजी) की परीक्षा फरवरी और मई में कराई जाएगी।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज पत्रकारों को बताया कि एनटीए सबसे पहले इस साल दिसंबर में राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) आयोजित करेगी। उन्होंने कहा कि जेईई (मेन्स) की परीक्षा साल में दो बार – जनवरी और अप्रैल – में होगी। नीट (यूजी) की परीक्षा फरवरी और मई में कराई जाएगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एनटीए साझा प्रबंधन प्रवेश परीक्षा (सीमैट) और स्नातक फार्मेसी अभिरुचि परीक्षा (जीपैट) भी आयोजित करेगी। सीमैट और जीपैट की परीक्षा अगले साल जनवरी में होगी। मंत्री ने कहा कि छात्र अब नीट और जेईई (मेन्स) की परीक्षाओं में दोनों बार शामिल हो सकेंगे और दोनों में से ज्यादा बेहतर स्कोर को दाखिले के वक्त माना जाएगा। देश में मेडिकल संस्थाओं में प्रवेश के लिए नीट की परीक्षा ली जाती है। उन्होंने कहा , ‘‘ इससे छात्रों को ज्यादा मौके मिलेंगे। उनके भीतर की बेहतर क्षमता प्रदर्शित हो सकेगी और साल में एक ही बार एक ही परीक्षा से पैदा होने वाला तनाव कम होगा। बहरहाल , दोनों परीक्षाओं में बैठना अनिवार्य नहीं होगा। ’’

मंत्री ने कहा कि ये परीक्षाएं अब ज्यादा सुरक्षित होंगी और अंतरराष्ट्रीय मानकों पर खरी उतरेंगी। प्रश्न – पत्र लीक होने की भी समस्या नहीं रहेगी और ये परीक्षाएं छात्र हितैषी , वैज्ञानिक और लीक मुक्त होंगी।उन्होंने पत्रकारों से कहा , ‘‘ सभी उम्मीदवारों के लिए परीक्षाएं कंप्यूटर आधारित स्वरूप के जरिए ही संचालित होंगी। इनमें अत्यंत सुरक्षित आईटी सॉफ्टवेयर और इनक्रिप्शन का इस्तेमाल होगा ताकि समय पर परीक्षाएं हो सकें। इससे लीक एवं अन्य चीजों की दिक्कतें खत्म हो जाएंगी। ’’

मंत्री ने बताया कि इन परीक्षाओं के संदर्भ में पाठ्यक्रम , पश्नों के रूप और भाषा के विकल्प के बारे में कोई बदलाव नहीं किया गया है। परीक्षा की फीस में भी कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि इस बारे में छात्रों को घर पर या किसी केंद्र पर अभ्यास करने की सुविधा दी जाएगी। यह मुफ्त होगा। हर परीक्षा कई तिथियों को आयोजित होगी अर्थात 4-5 दिनों तक चल सकती हैं।

मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी परीक्षा आयोजन के संदर्भ में एक महत्वपूर्ण सुधार है और इसे इस वर्ष से शुरू करने का निर्णय किया गया है। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर केंद्रों से युक्त स्कूलों एवं इंजीनियरिंग कॉलेजों की पहचान की जाएगी और उन्हें अगस्त के तीसरे हफ्ते से शनिवार / रविवार को खुला रखा जाएगा ताकि कोई भी छात्र उनका नि : शुल्क लाभ उठा सके।

एनटीए की ओर से आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं का कार्यक्रम मंत्रालय की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आईआईटी पर जेईई (एडवांस) की परीक्षा कराने की जिम्मेदारी पहले की तरह कायम रहेगी।

आगामी दिसंबर में होने जा रही नेट परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन एक सितंबर से शुरू हो जाएंगे और यह प्रक्रिया 30 सितंबर तक जारी रहेगी। दो दिसंबर से 12 दिसंबर के बीच शनिवार और रविवार को प्रतिदिन दो पाली में ये परीक्षा आयोजित की जाएगी। नतीजे जनवरी 2019 के अंतिम हफ्ते में घोषित होंगे। जेईई (मेन्स) के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की शुरुआत एक सितंबर से शुरू होगी और यह 30 सितंबर तक जारी रहेगी। 6 जनवरी 2019 से 20 जनवरी 2019 तक आठ अलग – अलग पालियों में यह परीक्षा आयोजित की जाएगी और उम्मीदवार कोई एक पाली चुन सकते हैं। नतीजे फरवरी 2019 के पहले हफ्ते में घोषित होंगे।

जेईई (मेन्स) के दूसरे चरण के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की शुरुआत फरवरी 2019 के दूसरे सप्ताह से होगी। परीक्षा सात अप्रैल 2019 से 21 अप्रैल 2019 के बीच परीक्षाएं आठ अलग – अलग पालियों में होगी और उम्मीदवारद किसी एक को चुन सकते हैं। मई 2019 के पहले हफ्ते में नतीजे घोषित किए जाएंगे। नीट (यूजी) के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया एक अक्तूबर से 31 अक्तूबर तक चलेगी। परीक्षा तीन फरवरी से 17 फरवरी 2019 के बीच आठ अलग – अलग पालियों में होगी और छात्र कोई एक चुन सकते हैं। नतीजे मार्च 2019 के पहले हफ्ते में घोषित होंगे।

Download PDF

Related Post