पीएम के गृहराज्य में गैर-गुजरातियों को मारकर भगया जा रहा है – निरुपम

Download PDF
मुंबई- गुजरात में हमले होने के बाद वहां से पालयन कर रहे उत्तरभारतीयों को लेकर सियासत गरमा गई है। कांग्रेस के मुबंई अध्यक्ष संजय निरूपम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देते हुए कहा है कि पीएम के गृहराज्य में गैर-गुजरातियों को मारकर भगया जा रहा है तो वे न भूलें कि उन्हें भी एक दिन वाराणसी जाना है। इधर केंद्रीय राज्यमंत्री रामदास आठवले और मनसे ने पलटवार करते हुए कहा कि निरूपम गैर-जिम्मेदाराना बयान देकर मराठी और गैर-मराठियों में तनाव निर्माण करना चाहते हैं। 

कांग्रेस ने दी पीएम को चुनौती, आठवले बोले भाईचारा बिगड़ना चाहती है कांग्रेस 

नागपुर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए निरूपम ने कहा था कि उत्तर भारतीय समाज महाराष्ट्र चलाता है। दूध, सब्जी, अखबार बेचकर और आटो- टैक्सी चलाकर मुंबी का भार उठाता है। अगर उत्तरभारतीय एक दिन काम बंद कर दे तो पूरी मुंबई ठप्प हो जाएगी। इसके जवाब में केद्रीय राज्यमंत्री आठवले ने कहा है कि उत्तरभारतीयों का मुंबई के विकास में बड़ा योगदान है, इसे अस्वीकार नहीं किया जा सकता लेकिन उनके काम बंद करने से मुंबई ठप्प हो जाएगी, यह नहीं लगता। निरूपम मराठी और गैर-मराठियों के बीच तनाव निर्माण न करें। इसका परिणाम कांग्रेस को भुगतना पड़ सकता है। 
गुजरात के साबरकांठा जिले में 14 महीने की बच्ची से रेप की घटना सामने आने के बाद बिहार-उत्तर प्रदेश के लोगों सहित गैर-गुजरातियों पर कथित तौर पर हमले हो रहे हैं। कईयों का कहना है कि उन्हें गुजरात छोड़कर चले जाने की धमकियां दी गई है। इधर महाराष्ट्र के ठाणे जिले में एक बिहार के रहनेवाले व्यक्ति द्वारा ढाई साल की बच्ची के साथ छेड़छेड़ का वीडियो वायरल हुआ है। आरोपी आटो चलाता है। मनसे नेता अविनाश जाधव के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने आरोपी को मीडिया के सामने लाया और कैमरे के सामने पिटाई भी की। आरोपी ने कैमरे के सामने माफी मांगी।  जाधव ने धमकी दी है कि विकृत मानसिकता वाले परप्रांतियों पर कार्रवाई की जाए, अन्य़था मनसे अपनी स्टाइल में सबक सिखाएगी। जाधव ने निरूपम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि निरूपम को राज्य से खदेड़ देना चाहिए। मराठी और गैर-मराठी का विवाद निर्माण करके, राजनीति चमकाना निरूपम का धंधा बन गया है।
दरअसल  निरूपम ने सोमवार को कहा कि ‘पीएम के गृह राज्य गुजरात में अगर यूपी, बिहार और एमपी के लोगों को मार-मार के भगाया जाएगा तो एक दिन पीएम को भी वाराणसी जाना है। पीएम मोदी को याद रखना चाहिए कि वाराणसी के लोगों ने उन्हें गले लगाया और पीएम बनाया है। इस बीच कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने इन हमलों के मद्देनजर उनके समर्थकों के खिलाफ दर्ज किए गए ‘‘झूठे मामलों’’ को यदि सरकार ने वापस नहीं लिया तो वह 11 अक्टूबर से ‘सद्भावना’ उपवास करेंगे। 
 
कांग्रेस नेता अहमद पटेल के मुताबिक अगर 1-2 लोगों ने कोई अपराध किया है तो इसके लिए सभी लोगों को निशाना नहीं बनाना चाहिए। जो निर्दोष हैं उन्हें किसी तरह का नुकसान न पहुंचे, इसलिए उनकी सुरक्षा की जानी चाहिए। सरकार को चाहिए कि वह इस मामले में जल्द से जल्द जांच कर सही रास्ता निकाले। अहमद पटेल ने कहा कि गैर गुजरातियों के साथ वर्तमान में जो हो रहा है वह गलत है, क्योंकि सभी भारतीय हैं। यदि क्षेत्र के आधार पर ऐसी घनटाएं शुरू हो जाए तो आने वाले दिनों में यह दूसरे प्रदेशों में फैल सकती है। दूसरे ओर यूपी और बिहार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और नीतीश कुमार ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी से फोन पर बात की है। योगी का मुताबिक जो लोग गुजरात के विकास से नाखुश हैं, वे इसतरह की अफवाह फैला रहे हैं। गुजरात सरकार की ओर से इस मामले में जरूरी कदम उठाए गए हैं। पिछले तीन दिनों में कोई वारदात नहीं हुई है। गुजरात के विभिन्न इलाकों से पुलिस ने अब तक 342 लोगों को गिरफ्तार किया है।
Download PDF

Related Post