राज्यपाल के अभिभाषण का विपक्ष ने किया बहिष्कार 

Download PDF
मुंबई। राज्य के अंतरिम बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को विपक्ष ने विधानभवन की सीढियों पर बैठकर मूक प्रदर्शन किया और राज्यपाल सी, विद्यासागर राव के अभिभाषण का बहिष्कार किया।
विपक्ष के नेताओं ने राज्यपाल के एक पुराने बयान को लेकर नाराजगी जताई। विपक्ष का आरोप है नागपुर में एक कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल ने खुद को राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) का कार्यकर्ता बताया था। वे एक संवैधानिक पद पर हैं, लिहाजा उनकी निष्पक्षता पर संदेह निर्माण होता है। विपक्ष का कहना था कि राज्यपाल द्वारा आरएसएस का समर्थन करना बेहद गंभीर मामला है।
इससे पहले कांगेस और एनसीपी के विधायकों ने विधान भवन की सीढियों पर प्रदर्शन किया। दरअसल वे उस मामले को लेकर नाराज थे, जिसमें यूपी में महात्मा गांधी के प्रतिमात्मक पुतले पर गोलियां चलाई गई थी और नत्थूराम गोडसे के समर्थन में नारेबाजी की गई थी।
विपक्ष के विधायक हाथों में बैनर लिए हुए थे, जिसमें ‘गांधी हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा हैं’, गांधी हमेशा जिंदा रहेंगे के नारे लिखे हुए थे।इस आंदोलन में कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज राज चव्हाण, नसीम खान ने भाग लिया।
इस बीच राष्ट्रगीत बजने के दौरान विपक्ष ने प्रदर्शन कुछ समय के लिए रोक दिया। बाद में फिर प्रदर्शन शुरू हो गया। राज्यपाल का अभिभाषण खत्म होने के बाद दोनों सदनों में पुलवामा आंतकी हमले शहीद हुए सैनिकों और दिवंगत सदस्यों को शोक प्रस्ताव पेश कर श्रद्धांजलि दी गई।  विधान परिषद में सदस्य कृष्णाराव पांडव के निधन पर शोक प्रस्ताव पेश किया गया।
Download PDF

Related Post