पालघर में भाजपा और भंडारा-गोंदिया में एनसीपी की जीत 

Download PDF
मुंबई- पालघर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी राजेंद्र गावित ने शिवसेना प्रत्याशी श्रीनिवास वनगा को 29 हजार 572 मतों से पराजित कर भारतीय जनता पार्टी के परंपरागत गढ़ पर कमल का कब्जा बरकरार रखा है। इसीतरह भंडारा गोंदिया संसदीय सीट के उपचुनाव में एनसीपी ने बाजी मारी है। एनसीपी प्रत्याशी मधुकर कुकड़े ने भाजपा उम्मीदवार हेमंत पटले को लगभग 40 हजार वोटों से पराजित किया है।
भाजपा के पूर्व सांसद चिंतामन वनगा के निधन के बाद पालघर लोकसभा सीट रिक्त हुई थी। इस चुनाव में शिवसेना – भाजपा के बीच हुए गठबंधन के हिसाब से इस सीट पर भाजपा काबिज थी। लेकिन शिवसेना ने पूर्व भाजपा सांसद चिंतामन वनगा के बेटे श्रीनिवास वनगा को अपने पक्ष में शामिल कर, यहां चुनाव मैदान में उतार दिया था। लेकिन श्रीनिवास वनगा यहां दूसरे स्थान पर रहें।
पालघर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी गावित को 2 लाख 72 हजार 782 मत मिले हैं , जबकि शिवसेना प्रत्याशी श्रीनिवास वनगा को 2 लाख 43 हजार 210 वोटों पर संतोष करना पड़ा है। बहुजन विकास आघाडी के उम्मीदवार बलिराम जाधव को 2 लाख 22 हजार 838 मत मिले हैं। इस उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी चौथे स्थान पर पहुंच गई है। बविअा के मुखिया हितेंद्र ठाकुर ने ईवीएम मशीन पर सवाल उठाए हैं। ठाकुर ने कहा कि भले ही हम चुनाव हार गए हैं, लेकिन नई ताकत और नए उत्साह के साथ हम वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव जीत कर रहेंगे। शिवसेना उम्मीदवार श्रीनिवास वनगा ने कहा कि हार-जीत उनके लिए मायने नहीं रखती। वे पिता का अधूरा काम आगे बढ़ाने के लिए चुनाव में उतरे थे। जो गलतियां हुई हैं, उसे सुधार करके वर्ष 2019 के चुनाव में वे जीत दर्ज करेंगे।
भाजपा के पूर्व सांसद चिंतामन वनगा के निधन के बाद पालघर लोकसभा सीट रिक्त हुई थी। इस चुनाव में शिवसेना – भाजपा के बीच हुए गठबंधन के हिसाब से इस सीट पर भाजपा काबिज थी। लेकिन शिवसेना ने पूर्व भाजपा सांसद चिंतामन वनगा के बेटे श्रीनिवास वनगा को अपने पक्ष में शामिल कर, यहां चुनाव मैदान में उतार दिया था। लेकिन श्रीनिवास वनगा यहां दूसरे स्थान पर रहें। भाजपा के लिए राजेंद्र गावित की जीत अपने आप में बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जा रही है। यहां भाजपा और शिवसेना के बीच कांटे की टक्कर रही। हालांकि बविआ के वोट प्रतिशत को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।
भंडारा- गोंदिया लोकसभा उपचुनाव में जीत के बाद एनसीपी कार्यकर्ताओं ने जमकर जश्न मनाया। एनसीपी कार्यालय के बाहर जमकर पटाखों की आतिशबाजी की गई। एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर कार्यकर्ताओं ने जीत की खुशी मनाई।विधानपरिषद के विपक्षी नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि भंडारा- गोंदिया उपचुनाव में भाजपा ने सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग किया। परंतु भाजपा प्रत्याशी को जनता ने नकार दिया है। यहां की जनता ने पूर्व सांसद नाना पाटोले व प्रफुल्ल पटेल के विकास काम पर मुहर लगाते हुए फिर से यहां एनसीपी प्रत्याशी को विजई बनाया है। मुंडे ने नाना पाटोले व प्रफुल्ल पटेल के प्रति आभार व्यक्त किया है। मुंबई स्थित एनसीपी कार्यालय पर राकांपा के पूर्व विधायक अशोक धात्रक सहित तमाम पदाधिकारियों ने विजयोत्सव मनाया । भंडारा-गोंदिया में ईवीएम मशीन खराब होने के कारण कुछ मतदान केंद्रों पर 30 मई को फिर से वोटिंग कराई गई थी। यहां 18 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे।
Download PDF

Related Post