नाणार परियोजना को लेकर भाजपा- सेना में सांठगांठ 

Download PDF
मुंबई, 17 अप्रैल ( हि.स.) । विधान सभा में विपक्ष के नेता राधाकृषण विखे पाटिल का आरोप है कि रत्नागिरी में प्रस्तावित नाणार रिफाइनरी परियोजना को लेकर शिवसेना और भाजपा के बीच मैच फिक्सिंग का खेल चल रहा है। केंद्र सरकार की योजना नाणार परियोजना को गुजरात में शिफ्ट करने की है। इसी वजह से भाजपा और शिवसेना में हताशा है। सोची समझी रणनीति के तहत एक तरफ राज्य सरकार परियोजना का समर्थन कर रही है , दूसरी ओर शिवसेना विरोध कर रही है।
भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए विखे पाटिल ने आरोप लगाया कि सरकार ने किसानों की कर्जमाफी की घोषणा सिर्फ अपने सेल्फ प्रमोशन के लिए किया है। कर्जमाफी की घोषणा के बाद 696 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। यवतमाल के उमरखेड तहसील में एक किसान ने खुद की चिता बनाकर आत्महत्या करने के बारे में कह रहा था, यह घटना शर्मनाक है।
विखे पाटिल ने कहा कि शिवसेना के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई विधानसभा में इस योजना को रद्द करने की मांग करते हैं, दूसरी ओर केंद्र सरकार इस योजना से जुड़े औपचारिकताओं को मान्यता देने में लगी है। भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए विखे पाटिल ने आरोप लगाया कि सरकार ने किसानों की कर्जमाफी की घोषणा सिर्फ अपने सेल्फ प्रमोशन के लिए किया है। कर्जमाफी की घोषणा के बाद 696 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। यवतमाल के उमरखेड तहसील में एक किसान ने खुद की चिता बनाकर आत्महत्या करने के बारे में कह रहा था, यह घटना शर्मनाक है। इसी जिले के एक किसान ने कुछ दिनों पूर्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पत्र लिखकर आत्महत्या की थी।
विखे पाटिल ने कहा कि 2014 के चुनाव के दौरान चाय पर चर्चा करते मोदी ने किसानों से कहा था कि उत्पादन खर्च पर 50 प्रतिशत फायदा नहीं होने पर सरकार उतना मूल्य देगी, लेकिन आज सता पर काबिज होने के बाद प्रधानमंत्री के पास किसानों की सुध लेने का समय नहीं है। इससे साफ होता है कि कर्जमाफी के फैसले पर सरकार की भूमिका स्पष्ट नहीं है। कर्जमाफी योजना में अनियमितता बरती गई है।
Download PDF

Related Post