उत्तर मध्य मुंबई: पूनम महाजन V/S प्रिया दत्त

Download PDF
मुंबई- देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की छह सीटों में से एक उत्तर मध्य मुंबई संसदीय सीट पर दो सशक्त महिलाओं के बीच चुनावी संग्राम होगा। भाजपा की मौजूदा सांसद पूनम महाजन और कांग्रेस की पूर्व सांसद प्रिया दत्त के बीच कांटे की टक्कर नजर आएगी। इसके अलावा अन्य दलों की मौजूदगी इस सीट के चुनावी समीकरण पर प्रभाव डालेगी।  
राहुल गांधी के सुझाव पर प्रिया चुनाव लड़ने को तैयार हुई
भाजपा सांसद पूनम महाजन भाजपा के कद्दावर नेता दिवंगत प्रमोद महाजन की पुत्री हैं और प्रिया दत्त फिल्म अभिनेता व पूर्व सांसद दिवंगत सुनील दत्त की पुत्री हैं। प्रिया दो बार सांसद रह चुकी हैं। दोनों अपने-अपने पिता की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रहीं हैं। मोदी लहर में वर्ष 2014 के चुनाव में पूनम ने प्रिया को 1 लाख 86 हजार 771 वोटों से पराजित किया था। कांग्रेस वापसी के लिए पूरा जोर लगाएगी तो वहीं भाजपा अपना तख्त बचाए रखने के लिए पूरी ताकत झोंकेगी। इससे पहले प्रिया दत्त व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से इनकार कर चुकी थी। संगठन में निष्क्रियता को देखते हुए पार्टी ने उन्हें महासचिव पद से भी हटा दिया था। खबरे आईं कि इस सीट से पार्टी नेता कृपाशंकर सिंह, बाबा सिद्दीकी और नसीम खान चुनाव भी लड़ने के इच्छुक हैं। लेकिन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के सुझाव पर प्रिया चुनाव लड़ने को तैयार हुई हैं। कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन खेमे से प्रिया दत्त की उम्मीदवारी घोषित कर दी गई है। 
 
फिल्म अभिनेत्री नगमा, फिल्म अभिनेता व कांग्रेस नेता राज बब्‍बर और पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन में से किसी एक को यहां से चुनावी मैदान में उतारे जाने की खबरें भी आई थी।  पिता सुनील दत्त के निधन के बाद  प्रिया दत्त वर्ष 2005 में पहली बार सांसद बनीं। प्रिया दत्त ने वर्ष 2009 का लोकसभा चुनाव भी जीता, लेकिन वर्ष 2014 में उन्हें भाजपा की पूनम महाजन ने हरा दिया। इससे पहले वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में प्रिया दत्त ने भाजपा के महेश जेठमलानी को 1 लाख 74 हजार 555 मतों से मात दी थी। प्रिया की पहचान एक सधी हुई राजनेता के तौर पर है। प्रिया, बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त की बहन हैं।
भाजपा-शिवसेना गठबंधन में यह सीट भाजपा के कोटे में है। भाजपा सूत्रों के अनुसार मौजूदा सांसद पूनम महाजन को फिर से उम्मीदवारी दी जाएगी। दावा है कि इस सीट से फिर भाजपा बड़े अंतरों के साथ जीत दर्ज करेगी। इस संसदीय क्षेत्र में नामी-गिरामी फिल्मी हस्तियां रहती है। साथ ही शिवसेना पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे और केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्यमंत्री रामदास आठवले का आवास है। मुस्लिम समुदाय, मराठी भाषी और दक्षिण भारतीय, बहुल्य क्षेत्र माना जाता है। गुजराती और हिंदी भाषी समुदाय निर्णायक भूमिका में हैं। झुग्गी झोपड़ियों का पुनर्वास, स्वच्छता, जर्जर व पुरानी इमारतों का पुनर्विकास, ट्रांजिट कैंप, सरकारी कॉलोनियों का पुनर्विकास, मीठी नदी की स्वच्छता, बारिश में जलजमाव, कोस्टल रोड, गटर और ट्रॉफिक जैसे अहम मसले हैं। इस संसदीय सीट के अंतर्गत विलेपार्ले, चांदिवली, कुर्ला, कालीना, बांद्रा (पूर्व) और बांद्रा (पश्चिम) कुल छह विधान सभा सीटें आती है। शिवसेना के तीन, भाजपा के दो और कांग्रेस के एक नसीम खान विधायक हैं।
 
इस सीट से ये रहे सांसद –
नारायण काजरोलकर (कांग्रेस), गोपाल मानय (एससीएफ), आरडी भंडारे (कांग्रेस), रोजा देशपांडे (सीपीआई), अहिल्याबाई रांगणेकर(सीपीआईएम), प्रमिला दंडवते (जनता पार्टी), शरद दिघे (कांग्रेस), विद्याधर गोखले (शिवसेना), नारायण आठवले (शिवसेना), रामदास आठवले (आरपीआई), मनोहर  जोशी (शिवसेना), एकनाथ गायकवाड (कांग्रेस), प्रिया सुनील दत्त (कांग्रेस) और मौैजूदा सांसद पूनम महाजन (भाजपा)। 
 
पिछले चुनावों के नतीजे – 
 
वर्ष 1996          नारायण आठवले (शिवसेना)        2,42,536                 शरद दिघे (कांग्रेस)                 1,53,337
वर्ष 1998           रामदास आठवले (आरपीआई)    2,82,373                 नारायण आठवले (शिवसेना)     2,57,141
वर्ष 1999           मनोहर जोशी      (शिवसेना)       2,94,935                 राजा ढाले  (बीबीएम)               1,25,940
वर्ष 2004           एकनाथ गायकवाड (कांग्रेस)      2,56,282                  मनोहर जोशी (शिवसेना)           2,42,953
वर्ष 2009           प्रिया सुनील दत्त      (कांग्रेस)      3,19,352                 महेश राम जेठमलानी (भाजपा)   1,44,797
वर्ष 2014           पूनम प्रमोद महाजन (भाजपा)       4,78,535               प्रिया सुनील दत्त      (कांग्रेस)      2,91,764         
Download PDF

Related Post