Red Corner Notice: अबू सालेम के कानूनी दांव के आगे सीबीआई चारो खाने चित्त।

Download PDF

मुंबई पुलिस की नादानी की वजह से पुर्तगाल की सुप्रीम कोर्ट ने सालेम का एक्सट्राडिशन (प्रत्यर्पण) रद्द कर दिया है. सालेम और मोनिका बेदी को फरवरी 2004 में पुर्तगाल पुलिस ने लिस्बन में जाली पासपोर्ट और जाली वीसा रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

गिरफ्तारी का समाचार मिलने के बाद मुम्बई पुलिस दोनों को मुम्बई ले आयी थी. मगर ये एक्सट्राडिशन तभी संभव हुआ था जब इंडिया ने पुर्तगाल सुप्रीम कोर्ट में लिखित वादा किया कि सालेम को किसी भी मामले में न तो फांसी दी जाएगी और न ही उसे 25 साल से ज्यादा जेल में रखा जायेगा.

मुंबई लाये जाने के बाद, सालेम पर 1993 के मुम्बई बम विस्फोटों की साजिश रचने के आरोप में टाडा अदालत में केस चला. आरोप सिद्ध होने पर सालेम को फँसी की सज़ा भी हो सकती थी. सालेम ने कानूनी लूपहोल का फायदा उठाया. उस के वकीलों ने पुर्तगाल सुप्रीम कोर्ट में एक्सट्राडिशन रद्द करने की गुहार लगाई. और सालेम की जान को खतरे में देखते हुए पुर्तगाल सुप्रीम कोर्ट ने एक्सट्राडिशन रद्द कर दिया.

इसी बीच, मध्य प्रदेश पुलिस ने एक नया केस सालेम पर कर दिया. सालेम पर हत्या का इलज़ाम लगा. जब सीबीआई को इस बात का पता चला उनके तोते उड़ गए. उनको डर था की अगर पुर्तगाल की सुप्रीम कोर्ट में अब सालेम ने कोई नयी अपील कर दी तो सालेम को इंडिया में रखना मुश्किल हो जायेगा.

सीबीआई ने मध्य प्रदेश सरकार को एक चिट्ठी भेजी की स्टेट गवर्नमेन्ट अबू सालेम के खिलाफ कोई नया केस दाखिल नहीं कर सकती.

अब स्थिति ये है की अबु सालेम पर इंडियन एजेंसीज की पकड़ कमज़ोर पड़ गयी है. और सालेम को कभी भी पुर्तगाल वापस भेजना पड़ सकता है.
——-

Red Corner Notice:
India may be forced to send Abu Salem back to Portugal?

Abu Salem and Monica Bedi were arrested in Lisbon, Portugal for possessing fake passport and visa. Portugal Supreme court had allowed their extradition to India after Indian government assured court in writing that Abu Salem will not be sentenced to death or more than 25 year prison.

Abu Salem who was deported to in India February 2004. He was prosecuted for 19193 Bombay Blasts under TADA. Salem faces Death Penalty if proven guilty. Fearing death penalty, Salem had appealed in Portuguese supreme court and Portugal Court repealed deportation judgement in 2011. But Indian agencies are still keeping him in Indian jail. Meanwhile, Salem was prosecuted in a new case of Murder in Bhopal bhy M.P. Police. Fearing Salem’s deportation, CBI Wrote to MP Government not to prosecute Salem in any new case.

Now situation is such that Abu Salem has got kind of ‘amnesty’ as Indian government fears that he will be deported??? Does it gives Abu Salem a free hand to run his criminal activities from behind the bars ??? Kill anyone and get away just because he can’t be prosecuted in any new case??? A shocking revelation by our consulting editor Mr. Vivek Agrawal.

Download PDF

Related Post