स्वतंत्रता दिवस से हार्मोनी विद ए.आर. रहमान अमेजोन प्राइम पर !

Download PDF
मुंबई- प्रसिद्ध संगीतकार उस्ताद एरआर रहमान की 17 मिनट की शानदार प्रस्तुति 15 अगस्त यानी स्वतंत्रा दिवस से अमेजन प्राइम वीडियो पर देखी जा सकेगी। हार्मोनी विद ए.आर. रहमान‘के पांच एपिसोड बनाए गए हैं। एरआर रहमान चार संगीतकारों के साथ मिलकर शानदार प्रस्तुति देते नजर आएंगे।

विशेष रूप से बनाए गए चार वाद्य यंत्रों और सुर परंपराओं से भारत की समृद्ध संगीत धरोहर को प्रस्तुत करेंगे

भारतीय संगीत की नई खोज के लिए एक संगीतमय अनुभव में पांच एपिसोड की श्रृंखला को कवितालय द्वारा तैयार किया गया है। इसके मेज़बान खुद ए.आर. रहमान होंगे। वे स्ट्रीमिंग सर्विस पर पहली बार पदार्पण कर रहे हैं। चार विशेष रूप से बनाए गए वाद्य यंत्रों और सुर परंपराओं से भारत की समृद्ध संगीत धरोहर को प्रस्तुत करेंगे और  इन्हें आधुनिक भारतीय संगीत से जो़ड़ने का का प्रयास करेंगे। फिनाले एपिसोड में सभी चार संगीतकार उस्ताद ए.आर. रहमान के साथ मिलकर 17 मिनट की भव्य प्रस्तुति देंगे। प्रत्येक एपिसोड में ए.आर. रहमान संगीतकारों के साथ उनके वास्तविक परिवेश पर चर्चा करेंगे। वाद्य यंत्रों की ऐतिहासिक परंपराओं और उनकी जटिलताओं को जानेंगें। इन्हें बिना तैयार किए गए सेशन में महाराष्ट्र, केरल, सिक्किम और मणिपुर की खूबसूरत वादियों में फिल्माया गया है। यह 200 देशों के प्राइम मेम्बर्स के लिए 15 अगस्त 2018 से उपलब्ध होगा।
अमेजन प्राइम वीडियो इंडिया के डायरेक्टर एवं हेड-कंटेंट, विजय सुब्रमण्यिम बताते हैं कि प्राइम एक्सक्लूसिव सीरीज में रहमान डिजिटल क्षेत्र में पदार्पण होने जा रहे हैं। यह प्रस्तुति ग्राहकों के लिए नवीनतम कंटेंट प्रस्तुत करने के हमारे प्रयासों का एक हिस्सा है। हमें विश्वास है यह शो प्रत्येक संगीत प्रेमी को रोमांचित करेगा। ए.आर. रहमान के मुताबिक शो के कान्सेप्ट ने मुझे इसका हिस्सा बनने पर मजबूर किया। इस सीरीज के माध्यम से मेरा लक्ष्य पारंपरिक वाद्ययंत्रों की ध्वनि को समकालीन परिदृश्य में प्रस्तुत करने का था। इस शो के जरिए मैं डिजिटल दुनिया में कदम रख रहा हूं। इसका हिस्सा बनकर रोमांचित हूं। इसके माध्यम से भारतीय परंपराओं को प्राइम वीडियो जैसे वैश्विक मंच पर दिखाने का मौका मिलेगा।
निर्माता और रचनाकार कंडास्वामी भारतन ने बताया कि आवाजें बहुत हैं, लेकिन संगीत एक है, यही हार्मोनी विथ ए. आर. रहमान का थीम है। भारत की संगीत परंपराआों औैर दुर्लभ ध्वनियों की प्रस्तुति, संगीतकारों की कहानियां, अपने पूर्वजों से प्राप्त परंपरा को बनाए रखने का उनका संघर्ष, रहमान का सूक्ष्म अवलोकन और वाद्य यंत्रो और ध्वनियों का सुंदर मिश्रण इस श्रृंखला का सार है। इस श्रृंखला में पर्वतों, जंगलों, झरनों की प्राकृतिक ध्वनि और देश का सौंदर्य होगा। हार्मोनी विद ए.आर. रहमान में शामिल महाराष्ट्र के उस्ताद मोही बहाउनदीन डागर, जो संगीतकारों की आठवीं पीढ़ी से हैं। वे रूद्र वीणा को धु्रपद शैली में बजाते हैं। केरल के कलामंडलम साजिथ विजयन ने मिझावु को अपना जीवन समर्पित किया है। मणिपुर की लौरेम्बम बेदाबाती देवी एक प्रख्यात कलाकार और पारंपरिक मणिपुरी लोकगीत खुनुंग इशेई या खुइलांग इशेई की गुरू हैं। सिक्किम के मिकमा शेरिंग लेप्चा को पैंथोंग पालिथ के उस्ताद के रूप में जाना जाता है।
Download PDF

Related Post