दिवाला प्रक्रिया की मंजूरी के खिलाफ रिलायंस ने दायर की अपील 

Download PDF
मुंबई- दूरसंचार कंपनी एरिक्सन की ओर से अनिल अंबानी की कंपनी के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने की याचिका दाखिल की गई थी। इस याचिका को राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने मंजूर कर लिया है। इस फैसले से नाराज होकर रिलायंस कम्युनिकेशंस ने राष्ट्रीय कंपनी कानून अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) का दरवाजा खटखटाया है।
कंपनी की ओर से कहा गया है कि राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) की मुंबई शाखा ने 15 मई को ऑरकॉम के खिलाफ जो आदेश जारी किया है, उसके खिलाफ स्थगनादेश हासिल करने का प्रयास किया जा रहा है। रिलायंस टेलिकॉम और रिलायंस इंफ्राटेल ने एनसीएलएटी में याचिका दायर की है।
रिलायंस कम्युनिकेशंस की याचिका पर अपीलीय न्यायाधिकरण में अगले कुछ सप्ताह में सुनवाई हो सकती है। एरिक्शन ने 1,150 करोड़ रुपए की वसूली के लिए रिलायंस कम्युनिकेशंस और उसकी दो सहयोगी कंपनियों के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू की थी। एनसीएलएटी की ओर से दिवाला प्रक्रिया शुरू करने का फैसला दिए जाने के बाद रिलायंस कम्युनिकेशंस ने इस संबंध में शेयर बाजार को सूचित करते हुए कहा है कि उसने अपनी दो सहयोगी इकाइयों के साथ एनसीएलएटी का दरवाजा खटखटाया है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) की मुंबई शाखा ने 15 मई को ऑरकॉम के खिलाफ जो आदेश जारी किया है, उसके खिलाफ स्थगनादेश हासिल करने का प्रयास किया जा रहा है। रिलायंस टेलिकॉम और रिलायंस इंफ्राटेल ने एनसीएलएटी में याचिका दायर की है। एनसीएलटी ने एरिक्शन की उस याचिका को स्वीकार कर लिया है, जिसमें 1,150 करोड़ रुपए की वसूली के लिए रिलायंस कम्युनिकेशंस और उसकी दो सहयोगी कंपनियों के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए एनसीएलटी में याचिका दाखिल किया गया था।
एरिक्सन ने रिलायंस कम्युनिकेशंस के दूरसंचार नेटवर्क की देखभाल और उसे चलाने के लिए साल 2014 में सात साल का समझौता किया था। लेकिन ऑरकॉम की ओर से लापरवाही बरती गई और कंपनी का भुगतान रोक दिया गया। इस बकाए की वसूली के लिए एरिक्शन की ओर से दिवाला कानून के तहत राष्ट्रीय ट्राइब्यूनल में याचिका दाखिल की गई थी। अपने बकाए के लिए चीन डेवलपमेंट बैंक की ओर से भी अनिल अंबानी की कंपनी के खिलाफ दिवाला संहिता के तहत कानूनी प्रक्रिया शुरू की गई है।
Download PDF

Related Post