अंबानी-अडानी पर सौदेबाजी का आरोप !

Download PDF
 
– उपनगर में बढ़ सकता है बिजली बिल का बोझ – 
मुंबई। कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष संजय निरुपम ने आरोप लगाया है कि मुंबई उपनगर के तकरीबन 30 लाख ग्राहकों को आनेवाले समय में बिजली की बढ़ी दरों का संकट का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अंबानी और अडानी के बीच हुए समझौते के कारण बिजली उपभोक्ताओं को मार झेलनी पड़ेगी। निरूपम ने महाराष्ट्र विद्युत नियामक आयोग से मामले की पूरी जांच कराने की मांग की है।
रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी घाटे में है और इसका बाजार भाव 5775 करोड़ रुपए है और घाटे वाली कंपनी को नवंबर 2017 में अडानी ने 18,800 करोड़ रुपए में खरीद लिया। भविष्य में मुंबई उपनगर में अडानी कंपनी बिजली की आपूर्ति करेगी। इससे बिजली की दर में भारी इजाफा होने की आशंका है।
प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए निरूपम ने अंबानी और अडानी कंपनी पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि उपनगर में अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर बिजली की आपूर्ति करती है। यह कंपनी गौतम अडानी की कंपनी अडानी ट्रांसमिशन को बेच दी गई है। रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी घाटे में है और इसका बाजार भाव 5775 करोड़ रुपए है और घाटे वाली कंपनी को नवंबर 2017 में अडानी ने 18,800 करोड़ रुपए में खरीद लिया। भविष्य में मुंबई उपनगर में अडानी कंपनी बिजली की आपूर्ति करेगी। इससे बिजली की दर में भारी इजाफा होने की आशंका है। रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर घाटे वाली कंपनी है, जिसे अडानी ने 18,800 करोड़ में क्यों खरीदा? घाटे वाली कंपनी खरीदने का क्या फायदा है? अडानी की अडानी ट्रांसमिशन कंपनी भी घाटे में है। इस कंपनी पर 47000 करोड़ रुपए का कर्ज है। बावजूद इसके उसने 5775 करोड़ की कंपनी को 18,800 करोड़ रुपए में क्यों खरीदा। इस सौदे में कुछ न कुछ घोटाला है।
निरूपम ने आरोप लगाया कि अडानी कंपनी को कंपनी खरीदने से पहले बैंकों का कर्ज वापस करना चाहिए। मौजूदा दौर में सभी बैंकों की हालत खस्ताहाल है। लिहाजा कौन सी बैंक अडानी को रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर खरीदने के लिए कर्ज देगी।  निरूपम के मुताबिक वे इस संबंध में राज्य विद्युत नियामक आयोग से लिखित शिकायत कर मामले की जांच कराने की मांग करेंगे। नियामक आयोग की अनुमति के बगैर अडानी कंपनी मुंबई में बिजली की आपूर्ति नहीं कर सकती। आयोग ने सतर्कता बरती तो मुंबई उपनगर  के विद्युत उपभोक्ताओं पर आनेवाला दर वृद्धि का संकट टल सकता है।
Download PDF

Related Post