शनि शिंगणापुर मंदिर पर कब्जा लेने आधी रात में पारित हुआ विधेयक 

Download PDF
 मुंबई – शनि शिंगाणपुर मंदिर को सरकारी नियंत्रण में लेने का कड़ा विरोध को देखते हुए सरकार ने आधी रात को विधेयक  को संख्याबल के आधार पर आनन-फानन में मंजूर करा लिया। इस विधेयक के पारित होने के बाद अब मंदिर पर सरकार का नियंत्रण होगा। शनि शिंगाणापुर मंदिर पर नियंत्रण के लिए सरकार ने विधानसभा में बुधवार की देर रात तकरीबन 12 बजे श्री शनैश्वर देव स्थान न्यास विधयेक मंजूर करा लिया। नए विधेयक के अनुसार मंदिर प्रबंधन की पुनर्रचना कर मंदिर के कामकाज को अधिक पारदर्शी बनाया जाएगा, ताकि वहां आने वाले भक्तों को उत्तम सुविधाएं मिल सके।
पिछले कुछ सालों से मंदिर संचालय और प्रबंधन को लेकर कई बार उंगली उठाई गई। मंदिर का संचालन करने वालें ट्रस्टियों पर घोटाले का आरोप लगाया जा रहा था। मंदिर में महिलाओं के प्रवेश नहीं देने पर आंदोलन भी किया गया। आंदोलन के बाद 8 अप्रैल 2016 को पहली बार महिलाओं ने शनि मंदिर के चबूतरे पर जाकर दर्शन किया। महिलाओं के मंदिर में प्रवेश देने को लेकर अदालत में भी मुकदमा दाखिल किया गया था।
शिरडी से करीब 80 किलोमीटर दूर स्थित शनि शिंगणापुर मंदिर अलग ही महत्व है। यहां शनि देव का दर्शन लेने के लिए आने वाले भक्तो की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पिछले कुछ सालों से मंदिर संचालय और प्रबंधन को लेकर कई बार उंगली उठाई गई। मंदिर का संचालन करने वालें ट्रस्टियों पर घोटाले का आरोप लगाया जा रहा था। मंदिर में महिलाओं के प्रवेश नहीं देने पर आंदोलन भी किया गया। आंदोलन के बाद 8 अप्रैल 2016 को पहली बार महिलाओं ने शनि मंदिर के चबूतरे पर जाकर दर्शन किया। महिलाओं के मंदिर में प्रवेश देने को लेकर अदालत में भी मुकदमा दाखिल किया गया था। विवादों के चलते सरकार ने मंदिर प्रबंधन आने हाथ मे लेने का मन बनाया। फडणवीस सरकार ने मंत्रिमंडल में प्रस्ताव भी मंजूर किया। अब उसे कानूनी शक्ल दे दिया गया है।
इस बीच हिंदू जनजागृति समिति ने मंदिर के सरकारीकरण का विरोध किया है। समिति ने सरकार से इस निर्णय को रद्द करने की मांग की है। विरोध के बावजूद सरकार ने यह विधेयक मंजूर किया है। समिति ने कहा कि कांग्रेस ने पहले सरकारी खजाना खाली किया, इसके बाद उसकी दृष्टि हिंदू मंदिरों पर पड़ी। हिंदू मंदिरों का सरकारीकरण उसने ने शुरू किया।
 
मस्जिद और चर्च का भी हो सरकारीकरण
विधान सभा में शिवसेना के मुख्य प्रतोद सुनील प्रभु ने कहा कि शनि शिंगणापुर मंदिर को सरकारी करण करने का विधेयक आधी रात को पास किया गया। जिस प्रकार से सरकार  हिंदुओं में मंदिरों का सरकारी करण कर रही है। उसी प्रकार सरकार मस्जिद और चर्च का भी सरकारी करना चाहिए। बता दें कि पिछले दिनों शिवसेना ने भी विधानमंडल की सीढ़ियों पर बैठकर शनि शिंगणापुर सहित राज्य के सभी हिंदू मंदिरों के सरकारीकरण को रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन किया था।
Download PDF

Related Post